| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
 

लोकसभा निर्वाचन 2009 के दौरान विभिन्न राजनैतिक दलों और उनके अभ्यार्थियों द्वारा प्रचार-प्रसार के लिए शासकीय, अशासकीय भवनों पर नारे लिखे जाते हैं, पोस्टर चिपकाये जाते हैं और विद्युत और टेलीफोन के खम्बों पर चुनाव प्रचार से संबंधित झण्डियां लगाई जाती हैं। जिसके कारण शासकीय, अशासकीय संपत्ति का स्वरूप विकृत हो जाता है। जिला दण्डाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी भोपाल श्री शिव शेखर शुक्ला ने आज इस संबंध में आदेश जारी किए हैं कि शासन द्वारा मध्यप्रदेश संपत्ति विरूपण निवारण अधिनियम की धारा 3 के अनुसार कोई भी व्यक्ति जो संपत्ति स्वामी की लिखित अनुज्ञा के बिना सार्वजनिक दृष्टि से आने वाली किसी संपत्ति को स्याही, खडिया, रंग या किसी अन्य पदार्थ से लिखकर या चिन्हित करके उसे विरूपित करेगा, वह एक हजार रुपये तक के जुर्माने से दण्डित होगा।

शासकीय, अशासकीय संपत्ति का विरूपण न हो इसके लिए जिला दण्डाधिकारी एवं जिला निर्वाचन अधिकारी श्री शुक्ला ने संपत्ति विरूपण अधिनियम 1994 की धारा 5 के अंतर्गत क्षेत्रवार प्रभारी अधिकारियों को नियुक्त किया है। श्री मनीष सिंह, आयुक्त नगर निगम भोपाल को नगर निगम भोपाल का सम्पूर्ण क्षेत्र, श्री विक्रम सिंह मुख्य नगर पालिका अधिकारी कोलार को कोलार नगर पालिका का सम्पूर्ण क्षेत्र, श्री आर.एस. राजपूत मुख्य कार्यपालन अधिकारी नगर पंचायत बैरसिया को नगर बैरसिया का सम्पूर्ण क्षेत्र, श्रीमती सुधा भार्गव मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत फन्दा को तहसील हुजूर का सम्पूर्ण क्षेत्र और श्री विजय श्रीवास्तव मुख्य कार्यपालन अधिकारी जनपद पंचायत बैरसिया को तहसील बैरसिया का सम्पूर्ण क्षेत्र का प्रभारी अधिकारी नियुक्त किया है।

यह लोक संपत्ति सुरक्षा दल, निर्वाचन की समाप्ति तक संबंधित थाना प्रभारी से समन्वय बनाकर अपने कार्यक्षेत्र में प्रतिदिन भ्रमण करते हुए लोक संपत्तियों को विरूपित होने से रोकेगा। चुनाव प्रचार प्रसार के दौरान सड़कों पर स्वागत गेट सड़क के एक ओर से दूसरी ओर लगाना प्रतिबंधित रहेगा। प्रभारी अधिकारी एवं थाना प्रभारी इस संबंध में अपने क्षेत्र का साप्ताहिक प्रतिवेदन जिला निर्वाचन कार्यालय को भेजेंगे।

आर.एस. पाराशर