| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
 

भारत निर्वाचन आयोग ने निर्देश दिये हैं कि मतदान प्रक्रिया के सुचारू और प्रभावी संचालन के लिए कम्युनिकेशन प्लान बनाकर उसका कुशलतापूर्वक क्रियान्वयन किया जाए। इससे चुनाव प्रक्रिया के सूक्ष्म प्रबंधन के साथ-साथ यह निश्चित करने में भी मदद मिलेगी कि ऊपरी स्तर से किस जगह हस्तक्षेप की जरूरत है।
भारत निर्वाचन आयोग में उप चुनाव आयुक्त श्री आर. बालाकृष्णन ने आज वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से सभी प्रदेशों के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारियों से कम्युनिकेशन प्लान के संबंध में विस्तार से चर्चा की। मध्यप्रदेश की ओर से राज्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जे.एस. माथुर ने वीडियो कान्फ्रेंसिंग में हिस्सा लिया। वीडियो कान्फ्रेंसिंग में श्री बालाकृष्णन ने बताया कि समस्त मतदान दलों व ईव्हीएम के मतदान केन्द्रों पर पहुंचने की जानकारी से लेकर मतदान दिवस पर कानून व्यवस्था की स्थिति, मॉक पोल, मतदान की संख्या, फोटो पहचान पत्र से मतदान नहीं करने वाले मतदाताओं की संख्या, फार्म 17-ए भरने की स्थिति इत्यादि की नियत जानकारी संक्षिप्त रूप से इस माध्यम से प्रस्तुत की जाएगी। इस पूरी प्रक्रिया में यह सुनिश्चित करना होगा कि संचार व्यवस्था किसी भी प्रकार से अवरूध्द न हो। श्री बालाकृष्णन ने कहा कि जिला कलेक्टर, इस पूरी व्यवस्था के लिये पूर्ण रूप से कार्रवाई करें और इसमें कोई चूक की गुंजाईश नहीं होनी चाहिये।
मॉक रनिंग (परीक्षण प्रक्रिया) तथा मतदान दिवस पर भारत निर्वाचन आयोग से भी कम्युनिकेशन प्लान से संबंध्द मतदान केन्द्र से जिला कलेक्टर#रिटर्निंग अधिकारी से आयोग के सदस्य व अधिकारी रेंडम आधार पर फोन लगाकर बात करेंगे।
श्री बालाकृष्णन ने कहा कि मतदान कार्य में लगे अमले के हर स्तर के निर्धारित अधिकारी से नियत जानकारी प्राप्त होना सुनिश्चित होना चाहिये। यह निश्चित किया जाना चाहिए कि कौन व्यक्ति किससे बात करेगा। इसके लिए तालिका तैयार की गई है। पीठासीन अधिकारियों, जिला निर्वाचन अधिकारियों तथा अन्य अधिकारियों से नियमित अंतराल में चर्चा कर यह पता लगाया जाए कि वहां क्या हो रहा है। हर स्तर पर क्रास चैकिंग होना चाहिए।
श्री बालाकृष्णन ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग ने एक सर्वसुविधायुक्त नियंत्रण कक्ष बनाया है, जिससे कम्युनिकेशन प्लान का सुचारू रूप से क्रियान्वयन सुनिश्चित किया जा सके। उन्होंने कहा कि मतदान दिवस के पहले कम्युनिकेशन प्लान की कम से कम दो मॉक रनिंग होना चाहिए। इसके माध्यम से प्रत्येक मतदान केन्द्र तथा निर्वाचन प्रक्रिया से जुड़े हर एक अधिकारी पर भारत निर्वाचन आयोग की नजर रहेगी।
श्री बालाकृष्णन ने कम्युनिकेशन प्लान के बेहतर संचालन के लिए यथोचित स्तर पर मोबाइल फोन, टेलीफोन, फैक्स आदि संचार साधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के भी निर्देश दिये।
वीडियो कान्फ्रेंसिंग के दौरान मध्यप्रदेश के अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री संजय दुबे, उप मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जे.सी. भट्ट भी उपस्थित थे।

दिनेश मालवीय#प्रलय श्रीवास्तव