| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
प्रथम चरण में लगभग एक करोड़ 72 लाख मतदाता करेंगे
198 उम्मीदवारों के चुनावी भविष्य का फैसला
लगभग 98 हजार मतदानकर्मी होंगे तैनात

मध्यप्रदेश में प्रथम चरण में 13 संसदीय क्षेत्रों के 198 उम्मीदवारों के चुनावी भविष्य का फैसला 23 अप्रैल को इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों (ईव्हीएम) में कैद हो जायेगा। इन क्षेत्रों में कुल एक करोड़ 71 लाख 78 हजार 538 मतदाता अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे। इनमें 90 लाख 69 हजार 565 पुरुष और 81 लाख 8 हजार 973 महिला मतदाता हैं। कुल उम्मीदवारों में 9 महिलाएं शामिल हैं। मतदान सम्पन्न कराने के लिये 97 हजार 916 मतदानकर्मी तैनात होंगे।

प्रथम चरण के मतदान लिए कुल 21 हजार 814 मतदान केन्द्र बनाये गये हैं। इनमें से 21 हजार 577 मुख्य और 237 सहायक मतदान केन्द्र हैं।

मतदान की स्वतंत्रता और निष्पक्षता सुनिश्चित करने के लिये 50 मुख्य आब्जर्वर्स के साथ-साथ 5888 माइक्रो आब्जर्वर्स भी तैनात किये गये हैं। इन संसदीय क्षेत्रों में 95.83 प्रतिशत मतदाताओं को निर्वाचक फोटो परिचय पत्र वितरित किये जा चुके हैं।

इन 13 संसदीय क्षेत्रों में से सबसे ज्यादा 28 उम्मीदवार छिन्दवाड़ा में तथा सबसे कम 8 विदिशा में हैं। अधिकतम महिला मतदाता खजुराहो तथा मण्डला में हैं जहां 3-3 महिलाएं चुनाव मैदान में हैं।

प्रथम चरण के 13 संसदीय क्षेत्रों में 13 उम्मीदवार भारतीय जनता पार्टी, 12 इंडियन कांग्रेस के, 13 बहुजन समाज पार्टी, 11 समाजवादी पार्टी के, 6 लोक जनशक्ति पार्टी के, 9 गोंडवाना गणतंत्र पार्टी के, 10 गोंडवाना मुक्ति सेना के, 30 अन्य तथा 94 स्वतंत्र चुनाव मैदान में हैं।

इन संसदीय क्षेत्रों में मतदान के लिये 31 हजार 337 इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीनों का उपयोग होगा।

खजुराहो में 1739, सतना में 1433, रीवा में 1452, सीधी में 1504, शहडोल में 1666, जबलपुर में 1628, मण्डला में 2225, बालाघाट 1759, छिन्दवाड़ा 1481, होशंगाबाद 1783, विदिशा में 1742, भोपाल में 1604 और बैतूल में 1768 मतदान केन्द्र हैं।

दिनेश मालवीय /प्रलय श्रीवास्तव