Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts
 
मध्यप्रदेश में प्रथम चरण में गुरूवार को 13 संसदीय क्षेत्रों में हुए मतदान के दौरान 1473 मतदाताओं ने मतदान केन्द्र जाकर भी मतदान नहीं किया।
मतदान केन्द्र पहुँचकर अंतिम क्षण में मतदान नहीं करने वाले मतदाताओं का हिसाब रखा जाता है, जिससे कि कोई मतदाता वोट दर्ज किये जाने की शिकायत न करा सके। इसकी व्यवस्था लोक प्रतिनिधित्व कानून, 1962 में की गयी है। इसे 49-0 के नाम से जाना जाता है।
उपरोक्त मतदाताओं ने अपनी अंगुली पर अमिट स्याही लगवाई और रजिस्टर में अपना नाम दर्ज कराया। अपने इस अधिकार का उपयोग करने वालों में 712 खजुराहो संसदीय क्षेत्र में, 31 सतना, 17 रीवा, 2 सीधी, 14 शहडोल, 7 जबलपुर, 4 मण्डला, 20 बालाघाट, 3 होशंगाबाद, 189 छिन्दवाड़ा, 41 बैतूल, 15 विदिशा और 418 भोपाल में है।
 

दिनेश मालवीय / प्रलय श्रीवास्तव