Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
नामांकन प्रक्रिया के दौरान अनुशासन रखने के निर्देश उम्मीदवार के साथ सिर्फ चार लोग रहेंगे : वीडियोग्राफी होगी

मध्यप्रदेश के तेरह लोकसभा क्षेत्रों के लिए नामांकन भरने की प्रक्रिया 28 मार्च से शुरू हो रही है। नामांकन पत्र 28 मार्च से 4 अप्रेल तक नेगोशिएबल इन्स्टूमेंट एक्ट के तहत घोषित अवकाश को छोड़कर शेष कार्य दिवस में प्रतिदिन पूर्वान्ह 11 बजे से अपरान्ह 3 बजे तक लिए जायेंगे। नामांकन पत्र दाखिल करने की अंतिम तिथि 4 अप्रैल है। नामांकन पत्रों की संवीक्षा 6 अप्रैल को होगी और नामवापसी की अंतिम तिथि 8 अप्रैल है। मतदान 23 अप्रैल को होगा।

चुनाव आयोग ने नामांकन पत्र दाखिल करने की प्रक्रिया के दौरान अनुशासन बनाए रखने के निर्देश जारी किये हैं। नामांकन भरने के दौरान उम्मीदवार के साथ सिर्फ चार और व्यक्ति रह सकेंगे। आयोग ने इस पाबंदी पर कड़ाई से पालन करने की हिदायत दी है। ऐसा इसलिए किया गया है ताकि नामांकन प्रक्रिया के दौरान रिटर्निंग अफसर के कमरे में अधिक भीड़भाड़ और अफरातफरी जैसी स्थिति नहीं बने। पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी होगी।

इस प्रक्रिया के दौरान अनुशासन तथा सीमित संख्या में लोगों की उपस्थिति के बारे में आयोग के निर्देश का पालन सुनिश्चित करने के लिए जिले के पुलिस अधीक्षक द्वारा एक नोडल अफसर नियुक्त किया जाएगा, जो रिटर्निंग अफसर के कार्यालय परिसर में अनुशासन सुनिश्चित करेगा और सिर्फ अनुमति प्राप्त व्यक्तियों को कक्ष में जाने देगा।

प्रशिक्षण के दौरान पुलिस अधीक्षकों द्वारा नोडल अफसरों को उनकेर् कत्तव्य और दायित्व ठीक से समझा दिये गये हैं।

जिन तेरह लोकसभा क्षेत्रों के लिए अधिसूचना 28 मार्च को जारी होगी और इसके साथ ही वहाँ नामांकन भरने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी वे हैं:- 08-खजुराहो, 09- सतना, 10-रीवा, 11-सीधी, 12-शहडोल (अजजा), 13-जबलपुर, 14-मंडला (अजजा), 15- बालाघाट, 16-छिन्दवाड़ा, 17- होशंगाबाद, 18-विदिशा, 19 भोपाल और 29-बैतूल(अजजा)।

इनमें से खजुराहो, शहडोल तथा विदिशा ऐसे संसदीय क्षेत्र हैं, जिनके नामांकन उनके नाम वाले स्थानों पर नहीं बल्कि अन्य जिला मुख्यालयों पर लिए जाएंगे। खजुराहो क्षेत्र के नामांकन पन्ना जिला मुख्यालय पर, शहडोल क्षेत्र के नामांकन अनूपपुर जिला मुख्यालय पर तथा विदिशा क्षेत्र के नामांकन रायसेन जिला मुख्यालय पर रिटर्निंग अफसर द्वारा लिए जाएंगे।


दिनेश मालवीय#प्रलय श्रीवास्तव