| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

 

चुनाव आयोग ने देवास नगर के भीषण पेयजल संकट से निपटने के लिये तीन करोड़ रुपये के दो प्रस्तावों को मंजूरी दी है। यह मंजूरी इस शर्त पर दी गई है कि उक्त कार्य में किसी प्रकार की राजनैतिक संलग्नता न हो तथा उसका कोई प्रचार-प्रसार न किया जाये।

आयोग द्वारा स्वीकृत पहला प्रस्ताव 2.65 करोड़ रुपये का है। इसके तहत म.प्र. राज्य उद्योग विकास निगम (एमपीएसआईडीसी) और म.प्र. औद्योगिक केन्द्र विकास निगम (एकेवीएन) द्वारा बीओटी योजना के माध्यम से देवास शहर के औद्योगिक क्षेत्र हेतु क्रियान्वित की जा रही नेमावर-देवास नर्मदा जल योजना से आगामी जून तक 5 एमएलडी पानी क्रय कर प्रदान किया जायेगा।

अभी नगर की जलप्रदाय योजना के मुख्य स्रोत शिप्रा नदी तथा राजानल तालाब में अल्पवर्षा के कारण पानी पूरी तरह से समाप्त हो चुका है। नगर निगम के स्वामित्व के टयूबवेल का जल स्तर भी काफी नीचे चला गया है। जिसके कारण शहर में भीषण पेयजल संकट उत्पन्न हो गया है।

आयोग ने देवास शहर की पेयजल समस्या को देखते हुये नये जल स्रोत और अधोसंरचनाओं के मरम्मत कार्य के 35 लाख रुपये के एक अन्य प्रस्ताव को भी मंजूर किया है। इसमें नलकूप्स (पावर पम्प) एवं हैण्डपम्पस में राइजर पाइप तथा नगर में स्थित पावर पम्पस् (केबल, मोटर पम्प दुरस्ती, पाइप आदि) तथा 151 हैण्डपम्प के संधारण का कार्य मय लोवरिंग एवं लिफ्टिंग के किया जायेगा

ख्या पर लगी पाबंदी वाप

 

दिनेश मालवीय#प्रलय