| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
8 दिसम्बर को सुबह 8 बजे से
ट्रेनिंग हुई पूरी

मध्यप्रदेश में 13वीं विधानसभा के लिए हो रहे चुनाव के सबसे अहम पड़ाव के बतौर मतगणना का काम सभी जिला मुख्यालयों पर 8 दिसम्बर को सुबह 8 बजे से शुरू हो जाएगा। इस काम में 10 हजार से ज्यादा कर्मचारियों का अमला तैनात किया जा रहा है। इन्हें अपना काम बाखूबी समझने की कई दौर में बाकायदा ट्रेनिंग दे दी गई है।
प्रदेश में मतगणना के लिए लगाई गई कुल 3334 मेजों में से हर एक पर एक मतगणना पर्यवेक्षक, एक मतगणना सहायक और पहली बार एक माइक्रो आब्जर्वर भी तैनात किये जा रहे हैं। इस हिसाब से कुल 10 हजार दो कर्मचारियों के जिम्मे यह काम होगा। माइक्रो आब्जर्वर के रूप में केन्द्रीय सरकार के कर्मचारी यह काम संभालने जा रहे हैं। इसके पीछे का मकसद चुनाव की प्रशासनिक प्रक्रिया में पूरी पारदर्शिता और निष्पक्षता सुनिश्चित करना है। मतगणना स्थल पर संबंधित विधानसभा क्षेत्र के रिटर्निंग अफसर, सहायक रिटर्निंग अफसर और आयोग के प्रेक्षक के साथ ही जिला निर्वाचन अधिकारी के बतौर कलेक्टर वहाँ रहकर पूरी प्रक्रिया पर नज़र रखेंगे ही।
उम्मीदवारों के एजेंट को पहचान पत्र
मतणगना के दिन सभी उम्मीदवारों के गणना एजेंटों की मौजूदगी भी वहाँ रहेगी। सभी क्षेत्रों में उम्मीदवारों से इनकी फोटो के साथ सूची प्राप्त की गई है। रिटर्निंग अफसर इन्हें अपने दस्तखत और सील के साथ फोटो पहचान पत्र जारी कर रहे हैं। बगैर ऐसे फोटो पहचान पत्र के एजेंटों को मतगणना हॉल में जाने की इजाजत नहीं दी जाएगी। यह भी साफ कर दिया गया है कि उम्मीदवारों को अपने एजेंटों की नियुक्ति उपयुक्त रूप से तयशुदा प्रारूप में एक ही पत्र के जरिए करना है। इस नियुक्ति पत्र पर उम्मीदवारों की सहमति के बतौर उनके दस्तखत भी होंगे। इसके बाद ये रिटर्निंग अफसर के सामने घोषणा पत्र पर भी दस्तखत करेंगे।
एजेंटों के बैठने का क्रम
मतगणना मेज पर उम्मीदवारों के अधिकृत गणना एजेंटों की बैठक व्यवस्था के लिए आयोग ने प्राथमिकता के अनुरूप प्रवर्ग तय किए हैं। इसके मुताबिक मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय दलों, मान्यता प्राप्त राज्यीय राजनैतिक दलों, अपने आरक्षित चिन्ह का प्रयोग करने की अनुमति प्राप्त अन्य राज्यों के मान्यता प्राप्त राज्यीय दलों, पंजीकृत अमान्यता प्राप्त राजनीतिक दल और निर्दलीय के लिए क्रम तय किए गए हैं। हर गणना एजेंट के पास एक बैज होना जरूरी होगा जिससे यह पता लग सकेगा कि वह किस उम्मीदवार का एजेंट है और यह भी कि वह किस क्रम संख्या की मेज पर मतगणना देखेगा। इस बेज पर एजेंट को अपने पूरे दस्तखत भी करना होंगे। गणना एजेंट को उसे आवंटित मेज के पास ही बैठना होगा और हॉल में इधर-उधर नहीं घूमना है। जो अतिरिक्त गणना एजेंट उममीदवार नियुक्त करेंगे उन्हें रिटर्निंग अफसर की मेज के पास बैठकर मतगणना कार्रवाई देखने की इजाजत होगी।
रिटर्निंग अफसरों से कहा गया है कि उनकी मेज पर ज्यादा भीड़ न हो इसलिए वहाँ एक समय में एक ही व्यक्ति होना चाहिए भले ही वह उम्मीदवार हो या उसका एजेंट। जहाँ तक उम्मीदवार और उनके चुनावी एजेंट की बात है तो वे हॉल के किसी भी भाग में जाने के लिए स्वतंत्र होंगे। इन दोनों की गैरमौजूदगी में इनके अतिरिक्त गणना एजेंट को भी हॉल में कहीं भी जाने की इजाजत दी जा सकेगी।

योगेश शर्मा