| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
 

चुनाव आयोग ने स्पष्ट किया है कि विधानसभा चुनाव के लिए चयनित किए जा रहे क्रिटिकल मतदान केन्द्र का निर्धारण करने में केन्द्रीय प्रेक्षकों की राय लेना जरूरी होगा। उनका मत लिए बगैर इस कार्रवाई को अंजाम नहीं देना है। इस संबंध में राज्य निर्वाचन दफ्तर ने सभी जिला कलेक्टरों को इत्तेला कर दी है।
तयशुदा निर्देश के मुताबिक संबंधित निर्वाचन क्षेत्र के प्रेक्षक क्रिटिकल मतदान केन्द्र के लिए अपना मत निर्धारित प्रपत्र में देंगे। यदि वहाँ उस क्षेत्र के प्रेक्षक भ्रमण या अन्य कारण से मौजूद न हों तो करीबी निर्वाचन क्षेत्र के प्रेक्षक की सहमति इस बारे में ली जा सकेगी। उस विशेष परिस्थिति में जबकि करीबी क्षेत्र के प्रेक्षक भी वहाँ उस वक्त उपलब्ध न हों तो फिर संबंधित जिले के कलेक्टर, पुलिस अधीक्षक के मशविरे से निर्धारित प्रपत्र में क्रिटिकल मतदान केन्द्र के चयन के लिए अपना मत अंकित करेंगे। उन्हें इस बारे में प्रेक्षक की अनुपलब्धता का उल्लेख भी करना होगा।

योगेश शर्मा