| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
फोटोग्राफी के लिए खास मुहिम अफसरों की तैनाती
वीडियो कान्फ्रेंसिंग से दिए निर्देश

लोकसभा चुनाव की तैयारियों के सिलसिले में प्रदेश में मतदाता सूचियों में संशोधन पर अमल शुरू हो चुका है। पाँच से 30 जनवरी तक इस मक़सद से एक खास मुहिम छोड़ी जा रही है। इस काम में विभिन्न स्तरों पर अफसरों की तैनाती को पुख्ता करने के निर्देश दिए गए है। आज मुख्य निर्वाचन पदाधिकारियों श्री जे.एस.माथुर ने काम में तेजी के मद्देनजर वीडियो कान्फ्रेंसिंग करके जिला कलेक्टरों को निर्देश दिए।
लोकसभा चुनाव की शुरूआती तैयारियों में वोटर लिस्टों में विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण (सुधार) को खासी अहमियत के साथ शुमार किया गया है। इसी कड़ी में मतदाता फोटो परिचय पत्र की तैयारी का बीड़ा भी उठाया गया है। इस सुधार में तीन तरह के मतदाताओं को शामिल किया गया है। इनमें एक जनवरी 2009 की स्थिति में जरूरी पात्रता (अर्हता) रखने वाले नए मतदाता, मतदाता परिचय पत्र होने के बावजूद परिचय सूची में नाम दर्ज नहीं होने वाले मतदाता और ऐसे मतदाता जिन्हें परिचय पत्र उपलब्ध नहीं है, शामिल किए गए हैं। इस सिलसिले में नाम जोड़े जाने और परिचय पत्र उपलब्ध कराने की कार्रवाई की जाएगी। मतदाताओं को इसकी व्यापक जानकारी देने को कब गया है।
जीर्ण-शीर्ण मतदान केन्द्रों के नए भवन
कलेक्टरों से कहा गया है कि वे जीर्ण-शीर्ण हालत वाले मतदान केन्द्रों या जहाँ इनके लिए जगह की कमी है वहाँ करीब के नए भवनों की तलाश कर इन्हें कायम करने का मसौदा तैयार कर लें। एक और अहम फैसला यह किया गया है कि हाल ही के विधानसभा चुनाव के लिए बनाए गए सहायक मतदान केन्द्रों को भी मुख्य मतदान केन्द्र में तब्दील किया जा रहा है ताकि इनकी तादाद कम न रहे। इसका भी प्रस्ताव तैयार कराया जा रहा है।
सौ फीसद होगी फोटो तैयारी
ज़िला कलेक्टरों से कहा गया है कि मतदाताओं के शत प्रतिशत फोटो खींच जाएं। यह काम अभिहित फोटोग्राफी स्थल पर होगा यह वो जगह होंगी जहाँ फोटो पहचान पत्र प्राप्त करने के लिए ज्यादा वोटर शेष हैं। इसके लिए पर्याप्त तौर पर फोटोग्राफर और डिजिटल कैमरों का इंतजाम किया जा रहा है।
वोटर लिस्टों की जाँच वोटर लिस्टें तैयार करने और इनकी जाँच करने का जिम्मा बूथ स्तरीय अफसरों (बीएलओ), नोडर अफसरों और पर्यवक्षकों को सौंपा जा रहा है। इसके लिए अन्य सहयोगी अमले का इंतजाम भी होगा। ये अफसर प्रारूप प्रकाशन के बाद बहुस्तरीय और विभिन्न किस्म की जाँच करेंगे। इनकी गुणवत्ता और शुध्दता जाँची जाएगी इसके लिए बाकायदा इन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी।

योगेश शर्मा