| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
आयोग ने उल्लंघन पर जताया ऐतराज

चुनाव आयोग ने इस जानकारी के तहत कड़ा ऐतराज जताया है कि कतिपय राजनैतिक दलों और उम्मीदवारों ने मतदाताओं को बाँटी जा रही पहचान पर्चियों पर पार्टी के चिन्ह और फोटो छपवा डाले हैं। आयोग ने इस कृत्य को चुनाव नियमों का उल्लंघन माना है। उसने जिला कलेक्टरों को ताकीद की है कि पर्चियों पर से ऐसे चिन्ह या फोटो तत्काल हटा लिए जाएं। इसे चुनाव कायदों का उल्लंघन मानकर कार्रवाई करने को कहा गया है।
आयोग का साफ कहना है कि मतदाता किसी चिन्ह या फोटो छपी पहचान पर्चियां यदि मतदान केन्द्रों में ले जाते हैं तो यह कृत्य मतदान केन्द्र के भीतर चुनाव संयाचना (मत माँगना) की श्रेणी में आएगा और इसकी कानून के मुताबिक आज्ञा नहीं है। कलेक्टरों से कहा गया है कि जिन किसी उम्मीदवारों ने ऐसी पर्चियाँ छपवाई हैं उनमें से तत्काल चिन्ह, उनके नाम या फोटो हटवाने की कार्रवाई सुनिश्चित की जाए। इस सिलसिले में बताया गया है कि मतदाता पहचान की पर्चियाँ सफेद कागज पर सादी होनी चाहिए। इन पर उम्मीदवार का या उसके दल का नाम न हो और न ही उनके चुनाव चिन्ह छापे गए हों। इसी तरह इन पर्चियों में कोई सांकेतिक वाक्य या नारे भी नहीं लिखे जा सकेंगे। आयोग ने यह भी साफ कर दिया है कि मतदान केन्द्रों के 100 मीटर के दायरे में इन पर्चियों का बाँटा जाना भी कानूनन उल्लंघन माना जाएगा।
इन अशासकीय पर्चियों पर केवल विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र, मतदाता का नाम, क्रम संख्या, मतदान की तारीख, भाग नंबर, मतदाता नंबर, पिता अथवा पति का नाम, आयु, पता मतदान केन्द्र नंबर, महिलाओं का नंबर का उल्लेख ही सादे कागज पर किया जा सकता है।
योगेश शर्मा