| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
दागदार कर्मचारियों का अलग चिट्ठा कार्रवाई शुरू

आगामी लोकसभा चुनाव में अफसर और कर्मचारियों की डयूटी लगाए जाने के लिए उनकी पहचान का सिलसिला शुरू हो गया है। आयोग ने इनकी अंतरिम सूची तैयार करने को कहा है, लेकिन उसने यह भी साफ कर दिया है कि दाग़दार ऐसे अफसर जिनके खिलाफ खुद उसने पहले कार्रवाई की है उनका चिट्ठा अलग से तैयार कर लिया जाए। भिन्न स्तरों पर इस कार्य की शुरूआत हो चुकी है।
चुनाव आयोग वक्त रहते लोकसभा चुनाव की तैयारियों का पक्षधर है। उसका कहना है कि तबादले को लेकर आयोग के मानदण्डों के तहत आने वाले अफसरों की फिलहाल अंतरिम सूची तैयार कर ली जाए। यह सूची आयोग द्वारा घोषित किए जाने वाले मानदण्डों पर आधारित होगी। हालांकि आयोग ने यह भी साफ किया है कि बाद में इनमें कुछ परिवर्तन किया जा सकता है तो भी अभी से ऐसी सूची बना लेना सुविधाजनक होगा। जिला निर्वाचन अधिकारी (कलेक्टर) ये सूचियाँ तैयार कर इनके सटीक होने की पुष्टि भी करेंगे।
इसी तरह आयोग ने उन अफसरों और कर्मचारियों के नामों की अलग से सूची बनाने को कहा है जिन्हें पहले उसके ही आदेश पर हटाया गया था या जिनका तबादला किया गया था। इनके अलावा वे अफसर और कर्मचारी भी जिनके खिलाफ आयोग के निर्देश पर अनुशासनात्मक कार्रवाई की गई है। इन अफसरों में से भारतीय प्रशासनिक और पुलिस अफसरों तथा रिटर्निंग अफसरों की सूची तैयार करने का जिम्मा मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के दफ्तर को सौंपा गया है। इसी तरह कनिष्ठ अफसरों और स्टॉफ की सूची जिला निर्वाचन अधिकारी अपने-अपने क्षेत्रों में बनाएंगे। इस तरह इकट्ठा किए गए नामों की सूची एकीकृत रूप से आयोग को भेजी जाएगी। ऐसे अफसरों और कर्मचारियों की पहचान का काम प्रदेश में शुरू कर दिया गया है।
प्रदेश के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी से कहा गया है कि आयोग के आदेश से होने वाले सभी तबादलों और अनुशासनात्मक कार्रवाई के मामले चूँकि उनके दफ्तर के माध्यम से ही अमल में लाए जाते हैं, लिहाजा इस संबंध में उन्हें इनका रिकार्ड पंजी में दर्ज करना है।

योगेश शर्मा