Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts
वक्त रहेगा 11 से 3 बजे तक आखिरी तारीख 7 नवंबर होगी

मध्यप्रदेश में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए विभिन्न उम्मीदवारों द्वारा नामजदगी के पर्चे दाखिल करने का सिलसिला 31 अक्टूबर से शुरू हो जाएगा। इसी दिन राज्यपाल द्वारा अधिसूचना जारी की जाएगी। चुनाव आयोग ने पर्चे भरने का वक्त पूर्वान्ह 11 बजे से अपरान्ह 3 बजे तक का तय किया है। सार्वजनिक अवकाश को छोड़कर हर दिन इसकी तयशुदा आखिरी तारीख 7 नवंबर तक पर्चे भरे जाएंगे। इसके लिए जगह रिटर्निंग अफसर तय करेंगे और इसकी सूचना वे अपने-अपने जिले में देंगे।
चुनावी प्रक्रिया के पहले अहम हिस्से के बतौर नामजदगी के पर्चे भरे जाने का काम तीन दिन बाद शुरू होने जा रहा है। नामांकन दाखिल करते वक्त उम्मीदवार द्वारा 5000 रुपए की सुरक्षा निधि जमा की जाएगी लेकिन अनुसूचित जाति और जनजाति के उम्मीदवार को इसकी आधी रकम के बतौर केवल 2500 रुपए ही जमा करने होंगे। भले ही ये उम्मीदवार सामान्य सीट से ही चुनाव लड़ें।
नामांकन दाखिल करते वक्त रिटर्निंग और सहायक रिटर्निंग अफसर की तयशुदा जगह पर 100 मीटर के दायरे में उम्मीदवारों के साथ तीन से ज्यादा गाड़ियों और उम्मीदवार समेत अधिकतम पाँच लोगों के प्रवेश की इजाजत दी जाएगी। पर्चा उम्मीदवार द्वारा खुद या उसके प्रस्तावक द्वारा पेश किया जाएगा। किसी भी उम्मीदवार द्वारा उसी निर्वाचन क्षेत्र में उसके या उसकी तरफ से अधिकतम चार पर्चें भरे जाएंगे। इसी तरह किसी भी उम्मीदवार द्वारा दो से ज्यादा संसदीय या विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से पर्चें नहीं भरे जा सकेंगे।
उम्मीदवार को चुनाव में यदि किसी मान्यता प्राप्त राष्ट्रीय या राज्य के राजनैतिक दल द्वारा खड़ा किया जा रहा है तो नामांकन के लिए उस निर्वाचन क्षेत्र का ही एक मतदाता उसका प्रस्तावक होगा। लेकिन, यदि उम्मीदवार किसी पंजीकृत पर गैर मान्यता प्राप्त दल द्वारा खड़ा किया जाता है या निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में चुनाव लड़ता है तो उसके प्रस्तावकों की संख्या 10 होगी और इनका उसी निर्वाचन क्षेत्र का मतदाता होना जरूरी होगा। नामांकन पत्र संशोधित फार्मों में भरे जाएंगे जो रिटर्निंग अफसर देंगे। इन्हें दाखिल करने का सिलसिला 31 अक्टूबर को अधिसूचना जारी होते ही शुरू हो जाएगा। एक शपथपत्र का प्रारूप, चुनाव संचालन नियम और आयोग के निर्देश की प्रतियाँ भी उन्हें दी जाएंगी।
मध्यप्रदेश में वर्ष 1980 से 2003 तक के कुल छह विधानसभा चुनावों में नामांकन पत्रों का ब्यौरा इस प्रकार है - वर्ष 1980 में कुल 4611 नामांकन, वर्ष 1985 में 6192, वर्ष 1990 में 10 हजार 982, वर्ष 1993 में 9301, वर्ष 1998 में 4104 और वर्ष 2003 में कुल 3061 नामांकन पत्र दाखिल किए गए थे।
जहाँ तक नामांकन निरस्त किए जाने की बात है तो वर्ष 1980 और 1985 में 181, वर्ष 1990 में 771, वर्ष 1993 में 667, वर्ष 1998 में एक हजार 37 और वर्ष 2003 में कुल 564 नामांकन पत्र निरस्त किए गए थे। नाम वापसी के सिलसिले में वर्ष 1980 और वर्ष 1985 में दो हजार 430, वर्ष 1990 में पाँच हजार 995, वर्ष 1993 में चार हजार 905, वर्ष 1998 में 557 और वर्ष 2003 में 326 उम्मीदवार नाम वापस लेकर चुनावी मैदान से हट गए थे।

योगेश शर्मा