Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts
मतगणना में पारदर्शिता के साथ चुनाव आयोग के निर्देशों का अक्षरश: पालन होगा
उप निर्वाचन आयुक्त श्री जुत्शी द्वारा मतगणना तैयारियों की समीक्षा
भोपाल : 07 दिसम्बर, 2013
 

भारत निर्वाचन आयोग के उप निर्वाचन आयुक्त श्री विनोद जुत्शी ने मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री जयदीप गोविन्द के साथ मध्यप्रदेश के 230 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के लिए 8 दिसम्बर को होने वाली मतगणना की तैयारियों की एक बैठक में आज समीक्षा की। बैठक में अपर मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री व्ही.एल. कान्ता राव, संयुक्त मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी श्री एस.एस. बंसल और भोपाल कलेक्टर श्री निशांत वरवड़े सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

श्री विनोद जुत्शी ने सभी 51 जिलों में होने वाली मतगणना तैयारियों की जानकारी अधिकारियों से प्राप्त की। श्री जुत्शी ने कहा कि निर्वाचन आयोग द्वारा मतगणना के संबंध में पूर्व में तथा हाल ही में जारी निर्देशों का पूरी सख्ती से पालन होना चाहिए। आयोग ने डाक मत पत्र की गणना के संबंध में भी जो निर्देश दिए हैं उनका अक्षरश: पालन करवाया जाए। सभी जिलों में मतगणना के 24 घंटे पहले प्रेक्षक की उपस्थिति में रेण्डमाईजेशन की प्रक्रिया संपन्न होगी। उन्होंने जिलों में मतगणना के लिए प्रयुक्त होने वाले टेबिलों की पर्याप्त संख्या रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि डाक से आने वाले मत पत्र हर स्थिति में सुबह 8 बजे के पूर्व आर.ओ. की टेबिल तक पहुँच जाना चाहिए। उसके बाद प्राप्त होने वाले डाक मत पत्र को गणना में कतई शामिल नहीं किया जाए। डाक मत पत्रों की डाक से प्राप्ति के लिए डाक विभाग द्वारा 230 नोडल अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं। प्रत्येक राउंड के बाद 17-सी के भाग दो में सभी गणना एजेन्टों की हस्ताक्षरित छायाप्रति उम्मीदवारों के गणना एजेन्ट को भी दी जाए।

श्री जुत्शी ने कहा कि 8 दिसम्बर को सुबह 8 बजे सबसे पहले डाक मत पत्रों की गणना शुरू हो तथा उसके आधा घंटे बाद ईवीएम में दर्ज वोटों की गिनती प्रारंभ करवाई जाए। डाक मत पत्र तभी निरस्त किया जाए जब उसमें आयोग के निर्देशों के अनुरूप कोई त्रुटि हो। डाक मत पत्र गणना की प्रत्येक टेबिल पर एक ए.आर.ओ. बैठेंगे। ए.आर.ओ. की टेबिल पर होने वाली डाक मत पत्र की गणना उम्मीदवारों के एजेन्ट भी देख सकेंगे। आरओ, मतगणना की विस्तृत जानकारी समय-समय पर प्रेक्षक को देंगे। मतगणना हाल में तैनात निर्वाचन अमला चुनाव आयोग के निर्देशों के अनुसार पारदर्शिता और आपस में बेहतर तालमेल के साथ कार्य करें।

श्री जयदीप गोविन्द ने बताया कि मतगणना के दौरान सभी 230 सामान्य प्रेक्षक उपस्थि‍त रहेंगे। उन्होंने बताया कि जिलों से मतगणना संबंधी जानकारी प्राप्त करने के लिए मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी कार्यालय में राज्य-स्तरीय कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है। कंट्रोल रूम में 20 टेलीफोन लाईन, 5 फेक्स तथा दक्ष अमला तैनात किया गया है। सभी 51 जिलों को बढ़त एवं परिणाम की जानकारी लेने के लिए दो समूह में विभक्त किया गया है। इंटरनेट कनेक्शन सहित कम्प्यूटर सेटअप स्थापित किए गए हैं। मीडिया रूम में जेनेसिस सॉफ्टवेयर द्वारा चक्रवार जानकारी देने के लिए डिस्प्‍ले की व्यवस्था की गई है।

श्री गोविन्द ने बताया कि जिलों में मतगणना स्थल पर कम्प्यूटर सेंटर में प्रत्येक विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र के गणना हाल में ब्राडबेण्ड कनेक्टिविटी के साथ कम्प्यूटर और 2-3 बेक-अप कम्प्यूटर की भी व्यवस्था की गई है। प्रत्येक मतगणना केन्द्र में कंट्रोल रूम और मीडिया सेन्टर की व्यवस्था की गई है। इंटरनेट कनेक्शन के साथ विधानसभा क्षेत्रवार कम्प्यूटर सेट-अप, उम्मीदवारों को चक्रवार परिणाम देने की सुविधा, प्रत्येक गणना हाल में वीडियोग्राफर तथा तकनीकी स्टॉफ उपलब्ध रहेगा। मतगणना के बाद अगले दिन 9 दिसम्बर को 21-सी की जानकारी एकत्रित कर आयोग को भेजी जाएगी।

विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण

श्री विनोद जुत्शी ने सभी 230 विधानसभा क्षेत्र में 13 दिसम्बर से प्रारंभ होने वाले निर्वाचक नामावली के विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण कार्यक्रम की तैयारियों की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव को दृष्टिगत रखते हुए एक जनवरी, 2014 को 18 वर्ष की आयु पूरी करने वाले सभी पात्र मतदाताओं के नाम निर्वाचक नामावली में जोड़े जाएंगे। उन्होंने बताया कि 16 दिसम्बर को निर्वाचक सूची के प्रारूप का प्रकाशन कर उसे मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी की वेबसाइट पर डाला जाएगा। दिनांक 16 दिसंबर से 31 दिसंबर तक दावे एवं आपत्तियाँ ली जाएंगी तथा 10 जनवरी, 14 तक दावों और आपत्तियों का निराकरण होगा। दिनांक 21 जनवरी, 14 को निर्वाचक नामावली का अंतिम प्रकाशन होगा।

प्रलय श्रीवास्तव 
पिछला पृष्ठ