| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
सबसे अधिक जुन्नारदेव और सबसे कम मेहगाँव में हुआ नोटा का उपयोग
भोपाल : 09 दिसम्बर, 2013
 

मध्यप्रदेश में हाल में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के दौरान 6 लाख 43 हजार 144 मतदाता ने ईवीएम और डाक मतपत्र में नोटा यानि "इनमें से कोई नहीं" का इस्तेमाल किया। इनमें डाक मतपत्र में 2633 तथा ईवीएम पर 6 लाख 40 हजार 511 नोटा का उपयोग हुआ। मतदाताओं द्वारा नोटा का सबसे अधिक उपयोग छिन्दवाड़ा जिले में हुआ जहाँ 7 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र में 39 हजार 235 नोटा के बटन दबाए गए। भिण्ड जिले में सबसे कम 3378 मतदाता ऐसे थे जिन्होंने नोटा का उपयोग किया।

विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रवार देखा जाए तो सर्वाधिक 9412 नोटा का इस्तेमाल छिन्दवाड़ा जिले के जुन्नारदेव में हुआ। सबसे अधिक 10 के क्रम में पानसेमल (बड़वानी) में 9288, अमरवाड़ा (छिन्दवाड़ा) में 8232, भैंसदेही (बैतूल) में 7929, बड़वानी (बड़वानी) में 7430, शहपुरा (डिण्डोरी) में 7214, मानपुर (उमरिया) में 6262, घोड़ाडोंगरी (बैतूल) में 5926, जोबट (अलीराजपुर) में 5689, आमला (बैतूल) में 5465 मतदाताओं ने नोटा के बटन दबाए अथवा डाक मतपत्र में "इनमें से कोई नहीं" का इस्तेमाल किया।

इसी प्रकार जिन दस विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों में नोटा का सबसे कम उपयोग हुआ, उनमें मेहगाँव (भिण्ड) में 245, खुरई (सागर) में 384, त्योंथर (रीवा) में 435, सिरमौर (रीवा) में 467, अटेर (भिण्ड) में 499, सेमरिया (रीवा) में 546, नागौद (सतना) में 548, लहार (भिण्ड) में 578, देवतालाब (रीवा) में 625, चित्रकूट (सतना) में 634 शामिल हैं।

बरगी (जबलपुर), जबलपुर केन्ट (जबलपुर), बीजापुर (छतरपुर), रैगांव (सतना), अशोकनगर (अशोक नगर), सुरखी (सागर), मलहेरा (छतरपुर), गुढ़ (रीवा), पृथ्वीपुर (टीकमगढ़), रामपुर बघेलान (सतना), लहार (भिण्ड), अटेर (भिण्ड) और मेहगाँव (भिण्ड) 10 ऐसे विधानसभा क्षेत्र थे जहाँ डाक मतपत्र में एक भी नोटा इस्तेमाल नहीं हुआ।

उल्लेखनीय है कि भारत निर्वाचन आयोग ने मतपत्र में पहली बार "इनमें से कोई नहीं" नोटा को पाँच राज्य में हुए चुनाव में शामिल किया था। आयोग के निर्देशानुसार नोटा के विकल्प के अंतर्गत प्राप्त मतों की गणना अवैध मतों के रूप में की गई है। आयोग ने जमानत जब्त होने की गणना अभ्यर्थियों को प्राप्त कुल वैध मतों के आधार पर ही करने के निर्देश दिए थे।

प्रलय श्रीवास्तव 
पिछला पृष्ठ