Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
 

सिवनी जिले में मछुआ सहकारी समिति द्वारा 40 लाख के लाभांश का वितरण किया गया है। समिति की सदस्य संख्या अब बढ़कर 329 हो गई है। समिति के पास छह तालाब हैं, जिनका जल क्षेत्र करीब 279.381 हेक्टेयर है। समिति ने पिछले तीन वर्ष में 1649.75 मीट्रिक टन मछली का उत्पादन किया। उत्पादित मछली से 21 लाख 75 हजार रुपये की आय हुई। यह आय समान रूप से सभी सदस्यों में वितरित की गई। अब मछुआरे अपने परिवार का ठीक ढंग से भरण-पोषण कर रहे हैं।

मछुआ सहकारी समिति द्वारा नरेला ग्राम में 65 हेक्टेयर का एक निजी तालाब, ठेके पर लिया गया, जिसमें मत्स्य-पालन का कार्य किया जा रहा है। मत्स्योद्योग विभाग द्वारा समिति को तकनीकी मार्गदर्शन दिया जा रहा है। वर्ष 2012-13 में मत्स्योद्योग विभाग द्वारा 21 हजार रुपये की अनुदान राशि समिति को दी गई। समिति अपने सदस्यों से प्रति किलो रॉयल्टी लेती है, शेष राशि सदस्यों को मजदूरी के रूप में दी जाती है। वर्ष 2012-13 में सदस्यों को लगभग 40 लाख रुपये लाभांश के रूप में दिये गये। प्रत्येक मछुआरे को 12 हजार लाभांश के रूप में मिले। समिति सीधे व्यापारी को मछली बेचकर लाभांश का वितरण कर रही है।

स्नेहलता मिश्रा