| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
 

प्रदेश के सुदूर इलाके के एक छोटे से गाँव में अंग्रेजी माध्यम के स्कूल का संचालन। वह भी गाँव की महिलाओं द्वारा गठित ग्राम उत्थान समिति के जरिये डी.पी.आई.पी. परियोजना के स्व-सहायता समूहों में शामिल महिला सदस्यों द्वारा। यह बात भले ही थोड़ी अचरज भरी लगे किंतु विन्ध्य अंचल के रीवा जिले के मऊगंज विकासखण्ड के 'बेलहाई' गाँव की महिलाओं ने इसे साकार किया है। पिछले तीन शिक्षा सत्र से इंग्लिश मीडियम का यह स्कूल सुचारू रूप से संचालित किया जा रहा है। स्कूल की आवश्यक व्यवस्थाओं का संचालन और देखरेख का काम भी जिला गरीबी उन्मूलन परियोजना के अंतर्गत गठित ग्राम उत्थान समिति द्वारा किया जा रहा है। अब स्कूल के चौथे सत्र की तैयारी है।

इस उल्लेखनीय एवं उत्कृष्ट कार्य के लिए मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रीवा जिले के देवतालाब में विधायक श्री गिरीश गौतम की सायकिल यात्रा के समापन मौके पर पिछले साल ग्राम उत्थान समिति की अध्यक्ष श्रीमती ममता पटेल को प्रतीक चिन्ह प्रदान कर सम्मानित किया था।

ग्राम उत्थान समिति की अध्यक्ष श्रीमती ममता पटेल कहती हैं कि के.जी. से लेकर कक्षा 5 वीं तक संचालित इस स्कूल में सत्र 2013 में एक कक्षा और बढ़ाकर कक्षा 6 की पढ़ाई शुरू करने पर विचार किया जा रहा है। पिछले शिक्षा सत्र में एक कक्षा बढ़ाकर 5 वीं कक्षा तक पढ़ाई की व्यवस्था की गयी थी। शिक्षा सत्र 2010-11 से संचालित इस स्कूल की दर्ज छात्र संख्या बढ़कर 82 तक पहुँच गई। वर्तमान में एक प्रधानाध्यापक, दो शिक्षक तथा एक कार्यालय सहायक अपनी सेवाएँ स्कूल को प्रदान कर रहे हैं।

रीवा के जिला परियोजना प्रबंधक श्री डी.पी. सिंह ने बताया कि वर्तमान में स्कूल के लिए अतिरिक्त कक्ष बनकर तैयार हो चुका है। इसके लिए क्षेत्रीय विधायक श्री गिरीश गौतम ने विधायक मद से डेढ़ लाख और स्कूल के फर्नीचर के लिए 15,000 रुपये दिये जाने की पहल की है। इसके पहले स्कूल का संचालन डी.पी.आई.पी. के प्रथम चरण में गाँव में निर्मित सामुदायिक भवन में किया जा रहा था। स्कूल को मान्यता प्रदान करने के संबंध में भी सभी औपचारिकताएँ पूर्ण की जा चुकी हैं। प्रथम वर्ष में ही स्कूल में शिक्षा की व्यवस्था उत्तम रही तथा परिणाम भी शत-प्रतिशत रहा। इंग्लिश मीडियम स्कूल प्रारम्भ करने के लिए अध्यक्ष श्रीमती ममता पटेल सहित ग्राम उत्थान समिति की अन्य महिलाओं ने स्वतः प्रयास कर नजदीक के गाँव पीपरा, रामपुरा एवं चन्द्रमहुली आदि में लोगों से सम्पर्क कर अपने बच्चों को इंग्लिश मीडियम से गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिये जाने के उद्देश्य से बेलहाई में स्कूल की शुरूआत और उसमें अपने बच्चों को प्रवेश दिलाने में सहयोग का आग्रह किया था। पहले वर्ष में ही कक्षा 3 तक के लिए प्रारम्भ इस स्कूल में 73 छात्र ने प्रवेश लिया। प्रबंध समिति द्वारा अभिभावकों से शिक्षण शुल्क भी लिया जाता है, जो बहुत कम है। स्कूल की अपनी यूनीफार्म भी है। इसके पहले इन गाँवों के बच्चों को इंग्लिश मीडियम से पढ़ाई के लिए पन्नी या मऊगंज जाना पड़ता था।

आरबी त्रिपाठी