| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
 

रीवा जिले के बदराव निवासी पुष्पेन्द्र गौतम और द्वारिका नगर के रविशंकर चतुर्वेदी की आर्थिक स्थिति ठीक न होने से वे दूसरे की गाड़ी चलाकर अपना जीवन-यापन कर रहे थे।

मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना प्रारंभ होने पर पुष्पेन्द्र ने किसी तरह 2 लाख रुपये एकत्र किये और योजना के अंतर्गत बैंक में जमा कर ऋण एवं अनुदान प्राप्त किया और 9 लाख रुपये की स्कार्पियो गाड़ी खरीदी। इसी प्रकार रविशंकर चतुर्वेदी भी 2.50 लाख बैंक में जमा कर 12 लाख की इनोवा गाड़ी का मालिक हो गया। दोनों को शासन द्वारा 5 वर्ष की गारंटी दी गई।

जिला व्यापार एवं उद्योग केन्द्र रीवा के महाप्रबंधक ने दोनों के प्रकरण जिला-स्तरीय टास्क-फोर्स से अनुमोदित करवाकर बैंक को भेजे, जहाँ इन्हें ऋण तथा अनुदान प्राप्त हुआ। आज दोनों आत्म-निर्भरता का जीवन व्यतीत कर रहे हैं।

सुनीता शर्मा