Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

मध्यप्रदेश शासन द्वारा स्थापित राष्ट्रीय एवं राज्यस्तरीय सम्मानों का विवरण

राष्ट्रीय तुलसी सम्मान

मध्य प्रदेश शासन ने आदिवासी लोक और पारम्परिक कलाओं में उत्कृष्टता और श्रेष्ठ उपलब्धि को सम्मानित करने और इन कलाओं में राष्ट्रीय मानदण्ड विकसित करने की दृष्टि से तुलसी सम्मान के नाम से एक लाख रुपये का एक वार्षिक पुरस्कार स्थापित किया है। यह सम्मान तीन वर्ष में दो बार प्रदर्शनकारी कलाओं और एक बार रूपंकर कलाओं के क्षेत्र में दिया जाता है।

राष्ट्रीय तुलसी सम्मान

1.

पं. गिरिजा प्रसाद

1983-84

2.

श्री हीरजी केशव जी

1983-84

3.

श्री भगवान साहू

1984-85

4.

सुश्री नीलमणि देवी

1985-86

5.

सुश्री गंगा देवी

1985-86

6.

सुश्री सोना बाई

1986-87

7.

श्री मणि माधव चाक्यार

1987-88

8.

श्री मदनलाल निषाद

1987-88

9.

श्री भुलवाराम यादव

1987-88

10.

श्री गोविन्द निर्मलकर

1987-88

11.

सुश्री फिदाबाई मरकाम

1987-88

12.

श्री देवीलाल नाग

1987-88

13.

श्री व्ही.गणपति स्थपति

1988-89

14.

श्री एन. वीरप्पन

1988-89

15.

श्री जिव्या सोमा म्हसे

1988-89

16.

श्री यक्षगान दल उडुपी

1988-89

17.

श्री सागर खाँ

1989-90

18.

श्री सादिक खाँ

1989-90

19.

श्री बड़ा गाजी खाँ

1989-90

20.

श्री बालप्पा बी. हुक्केरी

1990-91

21.

श्री बालकृष्ण दास

1990-91

22.

श्री झाड़ूराम देवांगन

1990-91

23.

श्री चमरूराम बघेल

1991-92

24.

श्री कोग्गा देवन्ना कामथ

1993-94

25.

श्री अर्जुनसिंह धुर्वे

1993-94

26.

श्री बेलायुधन नायर

1994-95

27.

श्री उमगराज खिलाड़ी

1994-95

28.

श्री मांगुणी दास

1995-96

29.

श्रीमती महासुन्दरी देवी

1996-97

30.

स्वामी हरिगोविन्द

1997-98

31.

श्री ओमप्रकाश टाक

1998-99

32.

श्री पूरनचंद-प्यारेलाल वडाली

1999-00

33.

श्री पूर्णचन्द्रदास बाउल

2000-01

34.

श्री गुरुप्पा चेट्टी

2001-02

35.

श्री रामकैलाश यादव

2002-03

36.

उस्ताद गुलाम मुहम्मद साज नवाज़

2003-04

37.

श्री प्रकाश चन्द

2004-05

38.

स्वामी रामस्वरूप शर्मा

2005-06

39.

श्री लल्लु वाजपेयी

2006-07

40.

दिया नही

2007-08

41.

श्री एम. रेंगास्वामी वेडार, पुदुक्कोटई

2008-09

42.

बाबा जयराम दास, अयोध्या

2009-10

43.

वर्ष 2010-11

शून्य घोषित

44.

वर्ष 2011-12

45.

श्री रामसहाय पाण्डे, सागर

2012-13

 

तुलसी सम्मान का निकष असाधारण सृजनात्मकता, उत्कृष्टता और दीर्घ साधना के निरपवाद सर्वोच्च मानदण्ड रखे गये हैं। चयन की निश्चित प्रक्रिया से यह स्पष्ट है कि कला के विवादित राष्ट्रीय मानदण्ड विकसित करने के इस विनढा प्रयत्न में सभी स्तरों पर विशेषज्ञों की हिस्सेदारी है और इस बात का पूरा ख्याल रखा गया है कि जहाँ एक ओर कलात्मक उपलब्धियों के बारे में एक तरह का व्यापक मत संग्रह संदर्भ के लिए उपलब्ध रहे, वहीं सम्मान से विभूषित किये जाने वाले कलाकार या मण्डली का चयन असंदिग्धा निष्ठा और विवेक वाले विशेषज्ञ पूरी निष्पक्षता, वस्तुपरकता और निर्भयता के साथ ऐसे मानदण्डों के आधार पर करें जो उत्तरदायी जीवन दृष्टि, गंभीर कलानुशासन और सौन्दर्यबोध पर आश्रित हैं।