| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube
पर्व और उत्सव
  1. गणगौर

  2. भाईदूज

  3. आखातीज

  4. संजा

  5. नीरजा

  6. घड़ल्या

  7. रतन्नवा

  8. दशहरा

  9. सुआरा

  1. लारूकाजा

  2. गंगा दशमी

  3. हरेली

  4. गोवरधन पूजा

  5. नवान्न

  6. मेघनाथ

  7. भगोरिया

  8. काकसार

  9. होली

गंगा दशमी

सरगुजा जिले में आदिवासियों और गैर आदिवासियों द्वारा खाने, पीने और मौज करने के लिए मनाया जाने वाला यह उत्सव जेठ (मई-जून) माह की दसवीं तिथि को पड़ता है। इसका नाम गंगा-दशमी होने का एक कारण है कि हिन्दुओं में यह विश्वास है कि उस दिन पृथ्वी पर गंगा का अवतरण हुआ था। यह पर्व धर्म से सीधा संबंध नहीं रखता। लोग इस दिन अपनी-अपनी पत्नी के साथ नदी किनारे खाते-पीते नाचत-गाते और तरह-तरह के खेल खेलते हैं।

हरेली या हरीरी

किसानों के लिए इस पर्व का विशेष महत्व है। वे इस दिन अपने कृषि उपयोग में आने वाले उपकरणों की पूजा करते हैं। श्रावण माह की अमावस्या को यह पर्व मनाया जाता है। मंडला जिले यह इसी माह की पूर्णिमा को तथा मालवा क्षेत्र में अषाढ़ के महीने में मनाया जाता है। मालवा में इसे "हर्यागोधा" कहते हैं। स्त्रियां इस दिन व्रत रखती हैं।

मेघनाथ

फाल्गुन के पहले पक्ष में यह पर्व गोंड आदिवासी मनाते हैं। इसकी कोई निर्धारित तिथि नही है। मेघनाद गोंडों के सर्वोच्च देवता हैं चार खंबों पर एक तख्त रखा जाता है जिसमें एक छेद कर पुन: एक खंभा लगाया जाता है और इस खंबे पर एक बल्ली आड़ी लगाई जाती है। यह बल्ली गोलाई में घूमती है। इस घूमती बल्ली पर आदिवासी रोमांचक करतब दिखाते हैं। नीचे बैठे लोग मंत्रोच्चारण या अन्य विधि से पूजा कर वातावरण बनाकर अनुष्ठान करते हैं। कुछ जिलों में इसे खंडेरा या खट्टा नाम से भी पुकारते हैं।

भगोरिया

फाल्गुन माह में मालवा क्षेत्र के भीलों का यह प्रिय उत्सव है। इसकी विशेष बात यह है कि इस पर्व में आदिवासी युवक-युवतियों को अपने जीवन साथी का चुनाव करने का अवसर मिलता है। भगोरिया हाट के दिन क्षेत्र भर से किसान, भील आदिवासी सजधज कर तीर तलवारों से लेस होकर हाट वाले गांव में पहुंचते हैं। वहां मैदान में ये लोग डेरे लगाते हैं। हाट के दिन परिवार के बुजुर्ग डेरी में रहते हैं पर अविवाहित युवक-युवतियां हाथ में गुलाल लेकर निकलते हैं। कोई युवक जब अपनी पसन्द की युवती के माथे पर लगा देता है तो और लड़की उत्तर में गुलाल लड़के के माथे पर लगा देती है तो यह समझा जाता है कि दोनों एक दूसरे को जीवन साथी बनाना चाहते हैं।पूर्व स्वीकृति की मोहर तब लग जाती है जब लड़की लड़के के हाथ से माजून (गुड़ और भांग) खा लेती है। यदि लड़की को रिश्ता मंजूर नहीं होता तो वह लड़के के माथे पर गुलाल नहीं लगाती। भगोरिया को दुशमनी निकालने का दिन भी समझा जाता है।