Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

तथ्य - पर्यटन

पर्यटन
  1. पर्यटन

  2. म.प्र. राज्य पर्यटन विकास निगम

  3. पर्यटन स्थल

क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का सबसे बड़ा राज्य मध्यप्रदेश पर्यटन की दृष्टि से अपना विशिष्ट स्थान रखता है। यहाँ चहुँ ओर बिखरी हुई प्राकृतिक सुषमा तथा सुंदरता पर्यटकों को आकर्षित करने की क्षमता रखती है। समुद्र तट और बर्फ को चूमते पहाड़ों को छोड़कर हर इच्छा और रूचि का पर्यटन मध्यप्रदेश में विद्यमान है। पर्यटक चाहे शिल्पी, पुरातत्वेत्ता, इतिहास प्रेमी अथवा सामान्य सैलानी क्यों न हो, उसे यहां के पर्यटन स्थलों को देखकर आनंद की अनुभूति होती है। मध्यप्रदेश में लगभग 450 पर्यटन केंद्र हैं जिन्हें निम्नानुसार चार श्रेणियों में बाँटा जा सकता है :-

  1. एतिहासिक एवं पुरातत्वीय महत्व के स्थान

  2. प्राकृतिक सौंदर्य के स्थान

  3. धार्मिक महत्व के स्थान

  4. वन्य प्राणी पर्यटन स्थल

वित्तीय साधनों को दृश्टिगत रखते हुए प्रदेश में स्थित पर्यटन केंद्रों में से निम्न 14 प्रमुख पर्यटन एवं धार्मिक स्थानों को विकास के लिए चुना गया है । खजुराहो, कान्हा, साँची-भोपाल, माण्डू-इंदौर, ग्वालियर-शिवपुरी, पंचमढ़ी, बांधवगढ़, अमरकंटक, उज्जैन, ओंकारेश्वर, चित्रकूट।