| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

 
दिनेश कुमार को मिली रुकी हुई छात्रवृत्ति राशि
 

पुष्पराजगढ़ जिला अनूपपुर के दिनेश कुमार ने सीएम हेल्पलाइन से संपर्क कर बताया कि वे शासकीय उच्चतर विद्यालय पुष्पराजगढ़ में कक्षा ग्यारहवीं के छात्र हैं। उन्हें कक्षा 9वीं और दसवीं की छात्रवृत्ति राशि नहीं मिली है। उन्होंने सीएम हेल्पलाइन के अधिकारियों से अनुरोध किया कि उन्हें छात्रवृत्ति राशि दिलवाने में मदद करें। दिनेश ने यह भी कहा कि उनकी आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। छात्रवृत्ति राशि मिलने से उनको पढ़ाई में (किताबें खरीदने और फीस वगैरह जमा करने) मदद मिल सकेगी। हेल्पलाइन के अधिकारियों ने शासकीय उच्चतर विद्यालय पुष्पराजगढ़ के प्राचार्य से संपर्क किया और दिनेश कुमार को छात्रवृत्ति की राशि नहीं मिलने की जानकारी भी माँगी।

प्राचार्य के अनुसार दिनेश कुमार ने सही समय पर छात्रवृत्ति के लिए आवेदन किया था, लेकिन उसका नाम त्रुटिवश छात्रवृत्ति प्राप्त करने वालों की सूची में शामिल नहीं हो पाया था। इसके लिए विद्यालय परिवार ने त्रुटि करने वाले सहायक कर्मचारी को बकायदा फटकारा भी। कर्मचारी द्वारा अपनी लापरवाही मान ली गई थी। तब दिनेश का नाम दूसरे सत्र की सूची के साथ संलग्न कर भेजा गया। इसकी पुष्टि प्राचार्य ने शिक्षा विभाग के पोर्टल पर दी गई सूची की प्रिन्ट कॉपी अधिकारियों को दिखा कर की। अधिकारियों ने दिनेश का नाम दूसरी सूची में शामिल होना पाया। यह जानकारी अधिकारियों ने दिनेश कुमार को दी और बताया कि उसे जल्द ही रुकी हुई छात्रवृत्ति राशि मिल जाएगी। दिनेश ने मदद के लिए धन्यवाद अदा किया।  तीन माह बाद दिनेश द्वारा सीएम हेल्पलाइन के अधिकारियों को छात्रवृत्ति राशि प्राप्त होने की सूचना दी गई और उसने अधिकारियों का आभार भी प्रकट किया।

क्या करें - इसके लिए टोल फ्री नंबर 181 पर कॉल करें। कॉल करने पर संबंधित शिकायतकर्ता से नाम और वर्तमान पता पूछा जाएगा। आप सही नाम और सही पता दर्ज करवाएँ। हर शिकायत दर्ज करने पर एक यूनिक नंबर जनरेट होता है। आप यह नंबर नोट कर लें। हेल्पलाइन से आपकी शिकायत को संबंधित अधिकारियों को ऑनलाइन और फोन द्वारा सूचित किया जाता है।

आप हेल्पलाइन पर प्राप्त यूनिक नंबर से अपनी शिकायत की यथास्थिति भी जान  सकते हैं। अगर आपकी समस्या का समाधान प्रथम स्तर पर नहीं हो पाता है, तब इसे लेवल टू यानी जिले के प्रमुख के पास भेजा जाता है। इसके बाद संभाग स्तर पर और फिर शासन के स्तर पर समस्या का निदान किया जाता है। समस्या के निपटारे के बाद संबंधित शिकायतकर्ता को क्लोजर कॉल द्वारा सूचित किया जाता है। सही मायने में यह आपकी समस्या के समाधान के लिए बनी हेल्पलाइन है। बस आपको 181 नंबर डायल करना है।

आप भी चाहें तो अपनी समस्या का समाधान सीएम हेल्पलाइन के जरिये करा सकते हैं।