Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

श्री वेंकैया नायडू चुने गये भारत के 13वें उपराष्ट्रपति

नई दिल्ली, श्री वेंकैया नायडू भारत के 13वें उपराष्ट्रपति चुने गये हैं। उपराष्ट्रपति पद के लिये हुये चुनाव में एनडीए प्रत्याशी श्री नायडू ने यूपीए के प्रत्याशी श्री गोपाल कृष्ण गाँधी को हराया। उपराष्ट्रपति पद के लिये हुये चुनाव में श्री नायडू को 516 वोट मिले, जबकि श्री गाँधी को 244 वोट मिले। उपराष्ट्रपति पद के लिये हुये चुनाव में संसद के दोनों सदनों (लोकसभा और राज्यसभा) के 771 सदस्यों ने वोट डाले।

श्री नायडू वर्तमान उपराष्ट्रपति श्री हामिद अंसारी का स्थान लेंगे। श्री नायडू वर्तमान केन्द्र सरकार में सूचना एवं प्रसारण और शहरी विकास मंत्री थे। श्री नायडू दो बार आंध्रप्रदेश विधानसभा के सदस्य रह चुके हैं और तीन बार कर्नाटक से राज्यसभा सदस्य निर्वाचित हो चुके हैं।

श्री वेंकैया नायडू का जन्म आंध्रप्रदेश के नेल्लौर जिले के चावटपलेम में 1 जुलाई 1949 को हुआ। श्री नायडू की प्रारंभिक शिक्षा नेल्लौर के वी.आर. हाईस्कूल से हुई। उन्होंने वी.आर. कॉलेज से राजनीति तथा राजनयिक अध्ययन में स्नातक किया। इसके बाद श्री नायडू ने विशाखापट्टनम के आंध्र विश्वविद्यालय से कानून की डिग्री हासिल की। वर्ष 1974 में वे आंध्र विश्वविद्यालय में छात्रसंघ के अध्यक्ष के रूप में निर्वाचित हुये। श्री नायडू पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार में केन्द्रीय ग्रामीण विकास मंत्री भी रह चुके हैं।

ऐसे होता है उपराष्ट्रपति का निर्वाचन

उपराष्ट्रपति पद का चुनाव सीक्रेट बैलेट के माध्यम से होता है। इस चुनाव में सिर्फ लोकसभा और राज्यसभा के सदस्य ही वोट डाल सकते हैं। इस चुनाव में उपयोग होने वाले बैलेट पेपर पर उम्मीदवार का सिर्फ नाम होता है, कोई चिन्ह नहीं। इस बैलेट पेपर पर वोट डालने के लिये सांसदों को एक विशेष पेन दिया जाता है। यदि किसी सदस्य ने किसी दूसरे पेन का उपयोग किया तो उसका वोट खारिज हो जाता है।