| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

सरदार सरोवर डूब क्षेत्र
पुनर्वास स्थल पर बनेंगे आदर्श गाँव, अधिकार पत्रों की होगी रजिस्ट्री
विस्थापन की भूमि के लिये मिलेगा विशेष पैकेज - मुख्यमंत्री

भोपाल, सरदार सरोवर डूब क्षेत्र के प्रभावितों के पुनर्वास कार्य सरकार की जिम्मेदारी हैं। पुनर्वास स्थल पर दिये गये अधिकार-पत्र की रजिस्ट्री होगी। रजिस्ट्री के लिये कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा। पुनर्वास स्थल के सारे गाँवों को आदर्श गाँव बनाया जायेगा। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में सरदार सरोवर डूब क्षेत्र के प्रभावितों से चर्चा करते हुए कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पानी भरने के बाद जो क्षेत्र टापू बनेंगे वहाँ, पुल, सड़कें और पहुँच मार्ग बनाए जायेंगे। जिन क्षेत्रों में खेती संभव नहीं होगी, उसका किसानों की माँग पर मुआवजा दिया जायेगा। डूब क्षेत्र के लोगों को जो विशेष पैकेज मिला है, वह विस्थापन के अधिग्रहीत भूमि स्वामियों को भी मिलेगा। ऐसे परिवार जिनकी 25 प्रतिशत से कम भूमि डूब में आयी है, उनको भी पैकेज का लाभ दिया जायेगा। पैकेज की गणना डूब में गई भूमि के अनुपात से की जायेगी। सिंचाई के लिए किसानों द्वारा डलवाई गई पाइप लाइन का भी सर्वेक्षण करवाकर मुआवजा दिया जायेगा।

  • निसरपुर कस्बे को आदर्श शहर के रूप में किया जायेगा विकसित।
  • विस्थापितों को मकान बनवाने के लिये पाँच लाख रुपये का पैकेज दिया जायेगा।
  • विस्थापितों को आकस्मिक व्यय के लिये दिये जायेंगे 80 हजार रुपये।

पुनर्वास के लिये छह सौ करोड़ रुपये का पैकेज

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुनर्वास के लिए पहले भी 600 करोड़ रुपये का पैकेज दिया गया था, जिसमें पाँच लाख 62 हजार रुपये मिलने थे।

अब उस राशि को बढ़ाकर 15 लाख रुपये किया गया है। सरकारी, धर्मस्व एवं समाज के मंदिरों के पुनर्निर्माण के लिए 27 करोड़ रुपये की पूरी राशि दी जायेगी। आवश्यकता होने पर और राशि भी दी जायेगी। सभी समाजों के माँगलिक भवनों के लिए उपलब्धता के आधार पर भूखण्ड दिये जायेंगे। सर्वे में छूट गये पात्र परिवारों के लिए फिर से सर्वे करवाया जायेगा।

गाँधी जी का बनेगा भव्य स्मारक

मुख्यमंत्री ने कहा कि पुनर्वास स्थल पर गाँधी जी के अस्थि-कलश को भव्य स्मारक में स्थापित किया जायेगा। पात्रता निर्धारण संबंधी विसंगतियों में जो नाम प्रकाश में आयेंगे, उनका पुनः सर्वे कराकर निराकरण किया जायेगा। उन्होंने कहा कि गाँव आज जिस स्थिति में हैं, पुनर्वास स्थल के गाँव उससे कई गुना बेहतर स्थिति में होंगे।