| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

स्वच्छता सम्मान समारोह
होशंगाबाद जिला बना खुले में शौच से मुक्त - मुख्यमंत्री
होशंगाबाद जिले की सभी 424 ग्राम पंचायतें हुईं खुले में शौच से मुक्त

होशंगाबाद, जहाँ स्वच्छता का वास होता है, वहाँ ईश्वर का वास होता है। राष्ट्रपिता महात्मा गाँधी भी स्वच्छता के हिमायती थे। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने स्वच्छता के प्रति लोगों का नजरिया बदल दिया है। पहले लोग सड़कों और सार्वजनिक जगहों पर कचरा फैलाते थे, किन्तु अब लोग कचरा डस्टबिन में डालते हैं। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने होशंगाबाद में आयोजित स्वच्छता सम्मान समारोह में होशंगाबाद जिले को खुले में शौच से पूर्णतः मुक्त घोषित करते हुए कही।

  • प्रदेश में नर्मदा के किनारे सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट लगाने के लिये 155 करोड़ रुपये स्वीकृत।
  • सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट में सीवेज के पानी को शुद्ध कर कृषि कार्य में किया जायेगा उपयोग।
  • रेत खनन की अनुमति देंगी ग्राम पंचायतें।

उल्लेखनीय है कि होशंगाबाद जिले की 424 ग्राम पंचायतें खुले में शौच से मुक्त हो चुकी हैं। इन ग्राम पंचायतों में 883 गाँव शामिल हैं। ग्रामीण विकास विभाग एवं जिला प्रशासन द्वारा इन ग्राम पंचायतों में 57 हजार 855 शौचालयों का निर्माण कराया गया है।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि शौचालय तो बन गये हैं, लोग उनका उपयोग भी करें। शौचालय का उपयोग करने की आदत डालें। शौचालय में भी साफ-सफाई रखें और अपने हाथ साबुन से अवश्य धोएँ। श्री चौहान ने कहा कि हमें अब अपनी मानसिकता बदलनी होगी। इससे हमारे घर की मर्यादा भी बनी रहेगी।

श्री चौहान ने कहा कि स्वच्छता के मामले में इंदौर जिला देश का नम्बर एक जिला घोषित हुआ है। उन्होंने नगरपालिका अध्यक्ष श्री अखिलेश खंडेलवाल को निर्देश दिये कि स्वच्छता के मामले में होशंगाबाद जिले को देश का अव्वल जिला बनायें। मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बनाये गये दो लाख प्रधानमंत्री आवासों की प्रशंसा करते हुए कहा कि यह सब पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग के अथक प्रयासों से संभव हो सका है। आने वाले 4-5 वर्षों में हर गरीब के पास पक्की छत होगी।

स्वच्छता समारोह में मुख्यमंत्री ने जन-स्वच्छता दूत बनने पर जिला पंचायत के अध्यक्ष श्री कुशल पटेल, कलेक्टर श्री अविनाश लवानिया, जिला पंचायत के मुख्य कार्यपालन अधिकारी श्री पी.सी. शर्मा एवं जिला समन्वयक की पूरी टीम को मुख्यमंत्री स्वच्छता सम्मान पुरस्कार प्रदान किया। इसके अलावा अनुविभागीय अधिकारियों, मुख्य कार्यपालन अधिकारियों एवं ब्लॉक को-ऑर्डिनेटर्स को पुरस्कार प्रदान किये गये।

पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री गोपाल भार्गव ने कहा कि प्रदेश में सभी तहसील शत-प्रतिशत सिंचाई की स्थिति में हैं। प्रदेश में सड़कों का जाल बिछाया गया है। अगले वर्ष 52 हजार गाँव पुल-पुलियों से जुड़ जायेंगे। प्रधानमंत्री आवास बनाने में मध्यप्रदेश देश का नंबर वन राज्य बन गया है। श्री भार्गव ने कहा कि आने वाले समय में समूचा प्रदेश खुले में शौच से मुक्त हो जाएगा।