| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

जेल प्रहरी दीक्षांत परेड
अपने दायित्वों के निर्वहन में सक्षम हैं प्रदेश के जेल प्रहरी
 

भोपाल, मध्यप्रदेश की जेलों में सुरक्षा व्यवस्था को अत्याधुनिक बनाया गया है। सजग सुरक्षा और सुधार जेल विभाग का लक्ष्य है। जेल प्रहरी, निष्ठा, कर्तव्य परायणता, दक्षता और ईमानदारी के साथ अपना दायित्व निभायें। जेल प्रहरियों की दीक्षांत परेड देखकर यह विश्वास होता है कि वे अपने दायित्वों के निर्वहन में सक्षम हैं। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में वर्ष 2016 बैच के नव प्रशिक्षित जेल प्रहरियों की दीक्षांत परेड-2017 को संबोधित करते हुए कही।

  • जेल प्रहरियों को आधुनिक हथियारों से किया जा रहा है लैस।
  • जेल प्रहरियों ने पहली बार पुलिस और अर्द्धसैनिक बल प्रशिक्षण केंद्रों में प्राप्त किया आधारभूत प्रशिक्षण।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि जेल, समाज की शांति के लिए कार्य करते है। जेलों में कई ऐसे दुर्दांत अपराधी भी रहते हैं जो यदि जेलों से बाहर चले जाएँ तो वे समाज के लिए घातक होते हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि जेलों में परिस्थितिजन्य अपराधी भी होते हैं। इसलिये प्रहरियों को परिस्थितियों के अनुरूप बंदियों के साथ व्यवहार करना होगा। उन्होंने कहा कि बुरे से बुरे व्यक्ति में भी अच्छी भावनाएँ होती हैं। बंदियों की अच्छी भावनाओं को पोषित और प्रोत्साहित करके उन्हें एक अच्छे इंसान के रूप में जेल से समाज में भेजने में जेलों की भूमिका महत्वपूर्ण है। इस दिशा में जेल सुधार के लिए निरंतर चिंतन किया जाना चाहिए। श्री चौहान ने कहा कि समारोह में महिला प्रहरियों के प्रदर्शन ने यह सिद्ध किया है कि वे हर परिस्थिति का सामना कर सकती हैं। पुलिस में उनके लिए 33 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था करना सरकार का सही और सफल निर्णय है।