Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

 
हिना ने जानी समेकित छात्रवृत्ति न मिल पाने की वजह
 

हिना पठान, इंदौर की निवासी हैं। हाल ही में उन्होंने शासकीय महारानी लक्ष्मीबाई पीजी कॉलेज इंदौर से बायोटेक्नोलॉजी में स्नातक परीक्षा पास की है। हिना के पिता की वार्षिक आय 36,000 रुपये है। उन्हें शासन से समेकित (अल्पसंख्यक वर्ग में) छात्रवृत्ति योजना का लाभ कक्षा बारहवीं में नहीं मिल पाया था। उन्होंने सीएम हेल्पलाइन के अधिकारियों से संपर्क कर उन्हें अपनी समस्या बताई और कक्षा बारहवीं में प्राप्त नहीं होने वाली समेकित छात्रवृत्ति राशि दिलवाने की गुहार लगायी। सीएम हेल्पलाइन के अधिकारियों ने पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक विभाग के अधिकारियों से संपर्क कर हिना की समस्या बतायी।

पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक विभाग में समेकित छात्रवृत्ति प्रभारी ने जाँच करने पर पाया कि हिना ने सही समय पर अन्य छात्राओं के साथ समेकित छात्रवृत्ति आवेदन पत्र शाला में जमा किया था। यह आवेदन पिछड़ा वर्ग और अल्पसंख्यक विभाग में भी सही समय पर आया था। चूंकि हिना के 11वीं में प्राप्तांक अन्य छात्रों से कम थे और किन्हीं दो छात्राओं को ही समेकित छात्रवृत्ति का लाभ मिल सकता था। जिसके चलते हिना को (कम अंक प्राप्त होने के कारण) समेकित छात्रवृत्ति का लाभ नहीं मिल सका। सीएम हेल्पलाइन के अधिकारियों ने हिना को वास्तविकता से अवगत कराया। तब हिना ने अधिकारियों को वास्तविक स्थिति बताने के लिए धन्यवाद अदा किया।

क्या करें - इसके लिए टोल फ्री नंबर 181 पर कॉल करें। कॉल करने पर संबंधित शिकायतकर्ता से नाम और वर्तमान पता पूछा जाएगा। आप सही नाम और सही पता दर्ज करवाएं। हर शिकायत दर्ज करने पर एक यूनिक नंबर जनरेट होता है। आप यह नंबर नोट कर लें। हेल्पलाइन से आपकी शिकायत को संबंधित अधिकारियों के पास ऑनलाइन और फिर फोन द्वारा सूचित किया जाता है।

आप भी हेल्पलाइन पर प्राप्त यूनिक नंबर से अपनी शिकायत की यथास्थिति जान सकते हैं। अगर आपकी समस्या का समाधान प्रथम स्तर पर नहीं हो पाता है, तब इसे लेवल टू यानी जिले के प्रमुख के पास भेजा जाता है। इसके बाद संभाग स्तर पर और फिर शासन के स्तर पर समस्या का निदान किया जाता है। समस्या के निपटारे के बाद संबंधित शिकायतकर्ता को क्लोजर कॉल द्वारा सूचित किया जाता है। सही मायने में यह आपकी समस्या के समाधान के लिए बनी हेल्पलाइन है। बस आपको 181 नम्बर डायल करना है।

आप भी चाहें तो अपनी समस्या का समाधान सीएम हेल्पलाइन के जरिये कर सकते हैं।