| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

 
मध्यप्रदेश राज्य हॉकी अकादमी के बच्चों ने लहराया जीत का परचम
 

भोपाल, मध्यप्रदेश में संचालित हॉकी अकादमी के सब-जूनियर (17 वर्ष से कम उम्र) बच्चों ने प्रदेश का नाम फिर से रौशन किया है। दो अलग-अलग प्रतियोगिताओं में मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी के सब-जूनियर खिलाड़ियों ने पहला स्थान प्राप्त किया है।

खेल मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने दोनों टूर्नामेंट में चैम्पियन बनने की खुशी जाहिर करते हुए कहा कि हमें इस बात का गर्व है कि प्रदेश की हॉकी अकादमी के न सिर्फ सीनियर खिलाड़ी अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अपना जौहर दिखा रहे हैं, बल्कि अब सब-जूनियर टीम भी अपने कदम अन्तर्राष्ट्रीय स्तर के लिए बढ़ा रही है।

खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने भोपाल स्थित टी.टी. नगर स्टेडियम में विजेता खिलाड़ियों से मुलाकात की। सब जूनियर टीम ने एक अक्टूबर से सात अक्टूबर के दौरान आयोजित अंडर-16 एसएनवीपी ऑल इण्डिया हॉकी प्रतियोगिता के फाइनल में दिल्ली की टीम को 4-1 से हराया। इस प्रतियोगिता में लगभग 16 टीमों ने भाग लिया था।

इसके अतिरिक्त नौ अक्टूबर से 22 अक्टूबर तक नई दिल्ली में आयोजित 35वीं सब-जूनियर नेहरू हॉकी प्रतियोगिता में मध्यप्रदेश हॉकी अकादमी की टीम ने गुरु गोविन्द हॉस्टल, लखनऊ की टीम को 5-1 से हराकर जीत हासिल की। नेहरू कप में कुल 12 टीमों ने शिरकत की थी। कोच डॉ. हबीब हसन के नेतृत्व में टीम ने यह जीत हासिल की।

अनुशासनहीनता पर खिलाड़ियों की काउंसिलिंग की जाये

मध्यप्रदेश राज्य हॉकी अकादमी में खिलाड़ियों को सभी सुविधायें दी जा रही हैं। खिलाड़ियों द्वारा अनुशासनहीनता करने पर पहले उन्हें चेतावनी दें, फिर उनकी काउंसिलिंग करें। इस पर भी सुधार नहीं हो, तो उन्हें तत्काल अकादमी से निष्कासित करें। यह बात खेल एवं युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया ने भोपाल में मध्यप्रदेश राज्य हॉकी अकादमी के नये हाई परफॉरमेंस कोच श्री रोलेंट ओल्टमेंस से मध्यप्रदेश हॉकी के दीर्घकालिक विकास पर चर्चा के दौरान कही।

कोच श्री रोलेंट ओल्टमेंस ने बताया कि हॉकी के दीर्घकालिक विकास के लिए सात-आठ साल की आयु के बच्चों से शुरुआत करना होगा तभी हम निर्धारित लक्ष्य प्राप्त कर सकते हैं।