| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

ऑटोमेटेड पब्लिक बाइक शेयरिंग और हब एण्ड स्पोक मॉडल
मध्यप्रदेश को शहरी परिवहन के लिये मिला विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार
 

हैदराबाद, मध्यप्रदेश को शहरी परिवहन में सर्वोत्तम अभ्यास परियोजना ‘पब्लिक बाइक शेयरिंग सिस्टम’ तथा क्लस्टर बेस्ड ‘हब एण्ड स्पोक’ अर्बन ट्रांसपोर्ट मॉडल के विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। तेलंगाना के आई.टी. एवं नगरीय विकास मंत्री श्री के.टी. रामाराव ने मध्यप्रदेश की नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह को हैदराबाद में दसवें अर्बन मोबिलिटी इण्डिया कॉन्फ्रेंस में ये विशेष राष्ट्रीय पुरस्कार प्रदान किये।

  • भोपाल स्मार्ट बाइक शेयरिंग सिस्टम देश का पहला पूरी तरह कैशलेस ऑटोमेटेड सिस्टम है। इसके साथ ही यह सिस्टम पूरी तरह मानव रहित है, इसे केंद्रीय नियंत्रण कक्ष से जोड़ा गया है।
  • ये साइकिलें स्टेशनों पर सातों दिन और चौबीस घंटे उपलब्ध हैं।

उल्लेखनीय है कि भोपाल स्मार्ट सिटी डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड ने 25 जून 2017 को भोपाल में पब्लिक बाइक शेयरिंग योजना की शुरुआत की थी। योजना में शहर के अलग-अलग स्थानों पर 50 स्टेशन बनाए गए हैं, जिनमें पाँच सौ साइकिलें हैं। योजना को बीआरटीएस से जोड़ा गया है। बीआरटी कॉरिडोर के बस स्टॉप के पास साइकिल स्टेशन बनाए गए हैं, जिससे लोक परिवहन को बढ़ावा मिल सके। पीबीएस योजना के तहत साइकिल चलाने के लिए रजिस्ट्रेशन फीस 500 रुपये निर्धारित है, जो रजिस्ट्रेशन रद्द कराने पर वापस हो जाती है। इसमें एक महीने, तीन महीने और एक साल की मेम्बरशिप का प्रावधान है। एक माह की मेम्बरशिप के लिए 149 रुपये, तीन महीने की 299 रुपये और एक साल के लिए 999 रुपये मेम्बरशिप फीस रखी गई है। मेम्बर के लिए प्रत्येक आधे घंटे की साइकिल राइड फ्री है। नॉन मेम्बर के लिए आधे घंटे की साइकिल चलाने का शुल्क 10 रुपये है।

अर्बन ट्रांसपोर्ट मॉडल

अमृत योजना के तहत लोक परिवहन की बस सेवा के लिए क्लस्टर आधारित हब और स्पोक मॉडल बनाया गया है। इसके तहत शहरों में क्लस्टर बनाकर बस सेवा शुरू की गई है। बसों का संचालन वायबिलिटी गैप फंडिंग (वीजीएफ) के तहत किया जा रहा है। वीजीएफ 40 प्रतिशत तय किया गया है। इससे बसों की संख्या और कनेक्टिविटी बढ़ी है। अलग-अलग शहरों में एसपीवी बनाकर बस सेवा शुरू की गई है और बड़े शहरों के आसपास के छोटे शहरों को भी सेवा से जोड़ा गया है। इससे लोक परिवहन व्यवस्थित हो गया है और अंतिम छोर तक बस सेवा शुरू होने से लोगों को राहत मिली है।

क्या है पीबीएस साइकिल

पब्लिक बाइक शेयरिंग की साइकिलों को लॉक और अनलॉक करने के लिए मोबाइल एप्लीकेशन और एप का इस्तेमाल किया जाता है। रजिस्टर्ड होने के बाद ओटीपी जनरेट होता है, जिसे साइकिल पर लगे कम्प्यूटर बोर्ड पर टाइप कर इसे अनलॉक किया जा सकता है। मोबाइल एप्लीकेशन से साइकिलों की रियल टाइम उपलब्धता और करीबी साइकिल स्टेशन की जानकारी प्राप्त की जा सकती है। राइड को स्मूथ बनाने के लिए साइकिल में पंचर रेसिसटेंट टायर के साथ ही हैडलाइट और एल्युमिनियम बास्केट एवं गियर दिए गये हैं।