Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

एशिया कप हॉकी टूर्नामेंट
भारतीय महिला हॉकी टीम दूसरी बार बनी एशियन चैम्पियन
भारत ने चीन को 5-4 से हराकर जीता खिताब

काकामिगाहरा, भारतीय महिला हॉकी टीम ने ऐतिहासिक प्रदर्शन करते हुए एशिया कप महिला हॉकी टूर्नामेंट का खिताब अपने नाम किया है। फाइनल मुकाबले में भारत ने चीन को पेनाल्टी शूटआउट में 5-4 से हराया। जापान के काकामिगाहरा में खेले गए मैच में दोनों ही टीमों ने शानदार प्रदर्शन किया। इस खिताबी जीत के साथ ही भारत ने महिला हॉकी विश्वकप के लिए क्वालिफाई कर लिया है।

मैच में भारत ने बढ़ाई थी बढ़त

भारत और चीन के बीच फाइनल मैच बेहद रोमांचक रहा। दोनों टीमों ने मुकाबले की शुरुआत रक्षात्मक तरीके से की। जिसके कारण पहला क्वार्टर गोल रहित निकला। दूसरे क्वार्टर में भारतीय खिलाड़ियों ने आक्रमक रणनीति अपनाई। इसका फायदा भारत को जल्द ही मिल गया। भारत के लिए 25वें मिनट में नवजौत कौर ने शानदार गोल किया और भारत को 1-0 की बढ़त दिलायी। इसके बाद तीसरा क्वार्टर भी गोल रहित ही निकला।

ौथे क्वार्टर में चीन ने की बराबरी

मैच में 1-0 से पिछड़ रही चीन की टीम चौथे क्वार्टर में भारतीय डिफेंस को भेदने में सफल हो गई। मैच के 47वें मिनट में चीन को बराबरी का मौका मिला, जिसका भरपूर फायदा उठाते हुए लू टियानटियान ने गोल दागा और मैच को बराबरी पर ला दिया।

पेनाल्टी शूटआउट भी रहा बराबर

निर्धारित समय तक दोनों टीमें 1-1 की बराबरी पर रहीं। इसके बाद मैच के नतीजे के लिए पेनाल्टी शूटआउट का सहारा लेना पड़ा। पेनाल्टी शूटआउट में भी दोनों टीमें बराबरी पर रहीं। दोनों ही टीमों ने 4-4 गोल किये। इसके बाद मैच का फैसला सडन डेथ में हुआ। सडन डेथ में भारतीय फॉरवर्ड रानी रामपाल ने शानदार गोल कर भारत की झोली में खिताब डाल दिया।

वर्ष 2004 में भी भारत बना था चैम्पियन

भारत चौथी बार एशिया कप महिला हॉकी टूर्नामेंट का फाइनल खेल रहा था। इससे पहले भारती महिला टीम वर्ष 2004 में विजेता बनी थीं। तब भारत ने जापान को हराया था। वहीं वर्ष 1994 और 2009 में भारत उपविजेता बना था।

  • भारतीय गोलकीपर सविता पूनिया गोलकीपर ऑफ द टूर्नामेंट रहीं।
  • चीन की झोंग जियाकी ने टूर्नामेंट में किये सर्वाधिक 11 गोल।
  • भारत के लिए गुरजीत कौर ने किए सबसे ज्यादा नौ गोल।
  • भारतीय टीम पूरे टूर्नामेंट में रही अपराजित।
  • भारतीय हॉकी के इतिहास में यह दूसरा मौका है जब एक ही साल महिला और पुरुष दोनों ही टीमों ने जीता एशिया कप।
  • वर्ष 2004 में भी महिला और पुरुष दोनों टीमें बनी थीं विजेता।
  • भारतीय पुरुष हॉकी टीम ने कुछ दिन पहले ही मलेशिया को हराकर जीता था एशिया कप का खिताब।