Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

जलवायु परिवर्तन को लेकर बने पेरिस समझौते में शामिल होगा सीरिया

अमेरिका के विरोध के बावजूद सीरिया जलवायु परिवर्तन को लेकर बने पेरिस समझौते में शामिल होगा। उसके इस फैसले के बाद अमेरिका अलग-थलग पड़ गया है। जर्मनी के बॉन शहर में चल रहे जलवायु सम्मेलन में सीरिया ने यह जानकारी दी है। गौरतलब है कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इसी साल जून में अमेरिका को पेरिस समझौते से खुद को अलग कर लिया था।
पेरिस समझौता जलवायु परिवर्तन को रोकने के लिये सबसे अहम वैश्विक समझौता है। इस समझौते के तहत दुनिया भर के देश जलवायु परिवर्तन रोकने के लिए एक साथ आये हैं। 2015 में जब पेरिस समझौता हुआ था तब सिर्फ सीरिया और निकारागुआ ही इससे बाहर थे, लेकिन इसी साल अक्टूबर में निकारागुआ भी समझौते में शामिल हुआ है।
सायबर हथियारक्षमता बढ़ायेगा नाटो

नाटो सैन्य अभियान के दौरान सायबर हथियार और कौशल का इस्तेमाल बढ़ाने पर सहमत हो गया है यह जानकारी नाटो प्रमुख जेन्स स्टोल्टेनबर्ग ने ब्रुसेल्स में रक्षा मंत्रियों की बैठक में दी। साथ ही उन्होंने बताया कि सैन्य गठबंधन नाटो, रूस से लड़ने के लिये अन्य क्षमतायें भी विकसित करेगा। नाटो प्रमुख ने कहा कि यह बदलाव हाल के वर्षों में सुरक्षा के माहौल में आये परिवर्तन को दिखाते हैं। वर्ष 2014 में रूस द्वारा क्रीमिया पर कब्जे के बाद पूर्वी हिस्से में तैनात गठबंधन सेना के लिए खतरा बढ़ गया।
अमेरिका ने लगाये क्यूबा पर प्रतिबंध

अमेरिका ने अपने नागरिकों पर क्यूबा को लेकर नये प्रतिबंध लगाए हैं। अब अमेरिकी नागरिक क्यूबा की सरकारी कंपनियों या संस्थानों के साथ व्यापार नहीं कर सकेंगे। इसमें सरकार संचालित होटल और दुकानें भी शामिल हैं। अब अमेरिकी नागरिक सिर्फ व्यवस्थित पर्यटक समूहों में ही क्यूबा जा सकेंगे। ये कदम पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा की क्यूबा के साथ संबंधों को बढ़ावा देने की नीति को वापस लेने के लिये उठाये गये हैं। नये आदेश के अनुसार यह प्रतिबंध इसी सप्ताह से लागू हो गया है।