| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

विंध्य की विरासत की पहचान बना विंध्य महोत्सव - मुख्यमंत्री
विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है विंध्य क्षेत्र

रीवा, विंध्य क्षेत्र की अनमोल विरासत और संस्कृतियों को समेटे हुए विंध्य महोत्सव, विंध्य की पहचान बन गया है। रीवा और विंध्य क्षेत्र विकास के पथ पर तेजी से आगे बढ़ रहा है। रीवा और विंध्य के विकास में कोई कसर नहीं छोड़ी जायेगी। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रीवा में विंध्य महोत्सव के समापन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कही।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि धन के अभाव में प्रदेश का कोई भी बेटा-बेटी अब उच्च शिक्षा से वंचित नहीं रहेगा। बारहवीं में 75 प्रतिशत अंक लाने के साथ मेडिकल, इंजीनियरिंग, आईआईटी, लॉ कॉलेज, पॉलीटेक्निक अथवा अन्य व्यावसायिक शिक्षा संस्थानों में प्रवेश लेने पर फीस का खर्च अब उनके माता-पिता नहीं, सरकार की तरफ से उठाया जायेगा। इसके लिए मौजूदा बजट सत्र में एक हजार करोड़ रुपये के प्रावधान किये गये हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश को नशा मुक्त बनाने, जन आन्दोलन चलाया जायेगा।

वाणिज्य उद्योग एवं खनिज साधन मंत्री, राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि विंध्य महोत्सव ने पिछले तीन वर्षों के दौरान रीवा में उत्साह का संचार किया है। विंध्य की संस्कृति परम्परा ना केवल संरक्षित हो रही है बल्कि संवर्धित भी हो रही है। उन्होंने कहा कि अगले विंध्य महोत्सव में महान सिने कलाकार स्व. राजकपूर की स्मृति में रीवा में बनने वाले 25 करोड़ की लागत के आरके ऑडिटोरियम का भी लोकार्पण हो सकेगा।