| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

पूर्ण समर्पण भाव से नागरिकों के कार्य करें अधिकारी और कर्मचारी
मुख्यमंत्री ने रीवा में किया नवीन कलेक्ट्रेट भवन का लोकार्पण

रीवा, प्रत्येक अधिकारी और कर्मचारी का दायित्व है कि पूरी कर्तव्यनिष्ठता के गरीब जनता के कार्यों को संवेदनशीलता के साथ करें। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने रीवा जिले में नवीन कलेक्ट्रेट भवन का लोकार्पण करते हुए कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि नवीन कलेक्ट्रेट भवन की वास्तुकला अपने आप में अनूठी है। यह भवन पूरे प्रदेश के साथ ही हिन्दुस्तान का भी सुन्दर भवन है। इस भवन के निर्मित होने से रीवा की सुंदरता में चार चांद लग गये हैं।

  • रीवा में अनुसूचित जनजाति की पी.जी. हॉस्टल में सीटों की संख्या बढ़ाकर 500 की जायेगी।
  • मुख्यमंत्री ने गौ-संवर्धन के लिये लक्ष्मण बाग गौशाला को दिए पांच लाख रुपये।

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि रीवा जिले का पिछले 13 वर्षों में चहुंमुखी विकास किया गया है। खनिज, उद्योग एवं पर्यटन को बढ़ावा दिया गया है। व्हाइट टाइगर मोहन की धरती पर व्हाइट टाइगर सफारी बनाया गया। यहाँ बाणसागर बांध का निर्माण होने से यहाँ की धरती सोना उगल रही है। रीवा में गेहूं का बम्पर उत्पादन होने लगा है। इसीलिये अधिकारियों और कर्मचारियों को राज्य सरकार ने सातवां वेतनमान केन्द्र के समान दिया है। मंहगाई भत्ते का एरियर भी दिया है।

उद्योग मंत्री राजेन्द्र शुक्ल ने कहा कि रीवा का नवीन कलेक्ट्रेट भवन प्रदेश का ही नहीं पूरे देश का अनूठा एवं सुंदर भवन है। अब अधिकारियों एवं कर्मचारियों का भी कर्तव्य है कि वे भी पूरी संवेदनशीलता एवं समर्पण भाव से नागरिकों के कार्य करें। नवीन कलेक्ट्रेट भवन में अत्याधुनिक सोलर सिस्टम लगाया गया है। कलेक्ट्रेट में सिंगल विंडो सिस्टम भी काम करेगा। पूरे भवन में सीसीटीवी कैमरे लगाये गये हैं।

कलेक्टर राहुल जैन ने कहा कि नवीन कलेक्ट्रेट भवन का निर्माण 13 करोड़ 62 लाख 78 हजार रुपये की लागत से किया गया। फर्नीचर एवं अतिरिक्त साज सज्जा में 2 करोड़ 17 लाख रुपये व्यय किये गये हैं। भवन को ग्रीन बिल्डिंग का स्वरूप दिया गया है। इसकी छत पर 200 किलोवॉट का सोलर पावर प्लान्ट लगाया है, जिससे पूरे परिसर को निःशुल्क विद्युत आपूर्ति की जायेगी। भवन में रेन वाटर हार्वेस्टिंग की गयी है। जिससे वर्षा के जल को पुनः प्रयोग में लाया जा सके। इस भवन में कलेक्ट्रेट के साथ ही 18 विभाग कार्य करेंगे।