| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

सौर ऊर्जा से चलने वाली देश की पहली डेमू ट्रेन को हरी झण्डी
रेलवे को पर्यावरण अनुकूल बनाने की दिशा में पहल - सुरेश प्रभु

नई दिल्ली, भारतीय रेलवे ने सौर ऊर्जा से चलने वाली पहली डेमू यानी डीजल इलेक्ट्रिकल मल्टीपल यूनिट ट्रेन का संचालन शुरू किया है। बैटरी बैंक वाली इस ट्रेन में सभी डिब्बों में प्रकाश, पंखे और सूचना डिस्प्ले जैसे सभी उपकरण ट्रेन की छतों पर लगे हैं, जो सौर पैनल द्वारा चलेंगे। भारतीय रेलवे को पर्यावरण अनुकूल बनाने की दिशा में यह एक बड़ी पहल है। यह बात रेल मंत्री श्री सुरेश प्रभु ने नई दिल्ली में ट्रेन को हरी झंडी दिखाते हुए कही।

इस ट्रेन का संचालन दिल्ली सराय रोहिल्ला से गुरुग्राम के फरूखनगर के बीच किया जायेगा। इस ट्रेन का निर्माण चेन्नई की कोच फैक्ट्री में किया गया है, जबकि इसकी सौर प्रणाली का निर्माण नई दिल्ली के भारतीय रेलवे वैकल्पिक ईंधन संगठन द्वारा किया गया है। अगले छह महीने में इस ट्रेन में 24 डिब्बे और जोड़े जायेंगे।

रेल मंत्री ने कहा कि रेलवे अगले पाँच वर्षों में एक हजार मेगावॉट क्षमता वाले सौर संयंत्र बनाने का लक्ष्य निर्धारित कर चुका है। भविष्य में अन्य ट्रेनों में सौर ऊर्जा प्रणाली लगायी जायेगी। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री हरित ऊर्जा के पर्यावरण अनुकूल उपायों के इस्तेमाल पर जोर देते रहे हैं। यही कारण है कि रेलवे पर्यावरण संरक्षण के प्रयासों के लिए प्रतिबद्ध है।

  • सौर ऊर्जा से चलने वाली इस ट्रेन से हर साल लगभग 21 हजार लीटर डीजल की होगी बचत।
  • इस ट्रेन से हर साल नौ लाख टन कार्बन उत्सर्जन होगा कम।
  • सौर ऊर्जा से संचालित इस ट्रेन में होंगे 6 कोच।
  • प्रत्येक कोच में होंगे 16 सोलर पैनल।