Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

 
नई गौशालाओं के पंजीयन के लिये एक एकड़ जमीन होना अनिवार्य
किसानों को जैविक खाद के उपयोग के लिये करें प्रेरित - मुख्यमंत्री

भोपाल, मध्यप्रदेश में अब नई गौशालाओं का पंजीयन कराने के लिये कम से कम सौ गौ-धन, भूमि, भवन और पेयजल की पर्याप्त व्यवस्था होना अनिवार्य होगा। गौशाला समिति के पास कम से कम एक एकड़ भूमि होनी चाहिये। यह निर्णय मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान की अध्यक्षता में सम्पन्न मध्यप्रदेश पशुधन एवं गौ-संवर्धन बोर्ड की बैठक में लिया गया।

मुख्यमंत्री ने भारतीय गायों के महत्व पर अंतर्राष्ट्रीय कार्यशाला करने के निर्देश भी दिये। इसके जरिये भारतीय गायों के संबंध में विभिन्न देशों में हो रहे अनुसंधान की जानकारी सबको सर्वसुलभ हो सकेगी। उन्होंने गोबर-खाद और गौ-मूत्र से बने कीटनाशकों का अधिकाधिक उपयोग करके जैविक खेती करने वाले किसानों को प्रेरित करने के निर्देश दिये।

बैठक में बताया गया कि प्रदेश की गौ-शालाओं में 1.41 लाख गौ-वंश का पालन किया जा रहा है। बैठक में बोर्ड का बजट बढ़ाने, आय का स्रोत बढ़ाने, गौ-अभ्यारण्य अनुसंधान एवं उत्पादन केन्द्र, सुसनेर के प्रबंधन संबंधी विषयों पर चर्चा हुई। इसके अलावा बोर्ड के कामों में विशेषज्ञों का सलाहकार मंडल बनाने, जैविक खाद की विपणन नीति तैयार करने, पशु चिकित्सक विज्ञान की स्नातकोत्तर की शिक्षा में देशी गौ-वंश पर अनुसंधान के लिये छात्रवृत्ति देने जैसे प्रस्तावों पर चर्चा हुई।