| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

 
युवाओं को विज्ञान और तकनीकी से रूबरू करवाती साइंस एक्सप्रेस
 

मडगाँव, युवाओं को विज्ञान और तकनीकी से जोड़ने और प्रोत्साहित करने के लिये चलाई जा रही साइंस एक्सप्रेस की 9वें चरण की यात्रा की शुरुआत गोवा के मडगाँव से हुई। यात्रा के इस चरण को ‘साइंस एक्सप्रेस क्लाइमेट एक्शन स्पेशल’ नाम दिया गया है। इस यात्रा का उद्देश्य जलवायु परिवर्तन की चुनौती को रेखांकित करना है। रेलमंत्री श्री सुरेश प्रभु ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए इस यात्रा का शुभारंभ किया।

क्या है साइंस एक्सप्रेस

भारत सरकार के विज्ञान और तकनीकी मंत्रालय द्वारा साइंस एक्सप्रेस चलाई जा रही है। साइंस एक्सप्रेस की शुरुआत वर्ष 2007 में हुई थी। यह ट्रेन अब तक सम्पूर्ण देश में आठ यात्राओं में एक लाख 53 हजार किलोमीटर की दूरी तय कर चुकी है। यह ट्रेन 495 स्टेशनों पर प्रदर्शनी का आयोजन कर चुकी है। अब तक लगभग एक करोड़ 64 लाख लोग इन प्रदर्शनियों को देख चुके हैं। साइंस एक्सप्रेस अब तक की सबसे बड़ी और सबसे लंबी गतिशील विज्ञान प्रदर्शनी बन चुकी है। इस ट्रेन के नाम लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में 12 रिकॉर्ड दर्ज हैं।

साइंस एक्सप्रेस में पहले से चौथे चरण तक विज्ञान और तकनीक विषय पर विश्वस्तरीय शोध और अनुसंधान थीम प्रदर्शित की गई थी। पाँचवें से सातवें चरण तक जैव विविधता से जुड़ी जानकारियाँ प्रदर्शित की गई थीं। आठवें चरण में साइंस एक्सप्रेस की थीम जलवायु कार्य योजना विशेष रखी गई थी।