| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

जलवायु परिवर्तन की लड़ाई में सिरमौर बना भारत

विश्व बैंक ने कहा है कि भारत जलवायु परिवर्तन के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में दुनिया भर में अग्रणी देश बन कर उभर रहा है। वर्ल्ड बैंक ने यह भी कहा कि सौर ऊर्जा के मामले में भारत एशियाई क्षेत्र में आदर्श बन कर नई छवि गढ़ रहा है। विश्व बैंक ने प्रकाशित एक समाचार रिपोर्ट के जरिए भारत में सौर ऊर्जा की महत्ता पर भी प्रकाश डाला है।
रिपोर्ट के मुताबिक भारत में ऊर्जा के स्रोत के रूप में, सौर ऊर्जा कोयले की जगह ले रही है।
विश्व बैंक ने कहा कि भारत सरकार ने महत्वाकांक्षी परियोजनाएँ बनायी हैं, जिसमें वर्ष 2022 तक पवन चक्की और सौर ऊर्जा से 160 गीगावॉट तक बिजली पैदा करने का लक्ष्य शामिल है।

देश में 2030 तक चौबीसों घंटे बिजली उपलब्ध कराने के लिए सौर ऊर्जा की ओर प्रतिबद्धता, नवोन्मेषी समाधान और ऊर्जा दक्षता के साथ भारत जलवायु परिवर्तन के खिलाफ सराहनीय कदम उठा रहा है। विश्व बैंक के अनुसार, अपनी वृद्धि को बढ़ाने के लिए और अधिक स्वच्छ ऊर्जा का इस्तेमाल करने की सचेत पसंद के साथ ही भारत जलवायु परिवर्तन के प्रभावों से धरती को बचाने के वैश्विक प्रयासों में योगदान दे रहा है।
विश्व बैंक ने यह भी माना कि भारत की जलवायु परिवर्तन के खिलाफ वैश्विक लड़ाई में खड़े होने की ठोस वजह उसका अपने देश में कार्बन उत्सर्जन को कम करने के प्रयोगों का अनुप्रयोग करना है।