| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | संपर्क करें | साईट मेप
You Tube

एच-1 बी वीजा से भारत-अमेरिका के संबंधों में पड़ सकती है दरार

 

भारतीय मूल की पूर्व राजनायिक निशा देसाई विस्वाल ने कहा है कि एच-1 बी वीजा को लेकर भारत-अमेरिका के बीच संबंधों में तनाव की आशंका लगातार बढ़ती जा रही है।

उन्होंने इस विषय पर ट्रंप प्रशासन से भी तर्कसंगत निर्णय की अपील की है, ताकि अमेरिका में बसे हजारों भारतीयों के साथ न्याय हो सके।

ज्ञात रहे कि सुश्री विस्वाल पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा के कार्यकाल में दक्षिण और मध्य एशिया के लिए सहायक विदेश मंत्री के पद पर कार्यरत थीं। ओबामा प्रशासन के बदलाव के बाद इस बात की आशंका बढ़ गई है कि ट्रंप प्रशासन इस मुद्दे पर अड़ियल रुख अपना रहा है, जिसके चलते दोनों देशों के बीच संबंधों में दरार आ सकती है। साथ ही सुश्री विस्वाल ने कहा कि ‘‘इसमें कोई शक नहीं कि एच-1 बी वीजा कार्यक्रम यूएस और विदेशी कंपनियों के लिए न केवल महत्वपूर्ण है बल्कि इससे अमेरिका की अर्थव्यवस्था को भी फायदा पहुँच रहा है।’’ उन्होंने कहा कि ‘‘ओबामा प्रशासन के अंतर्गत दोनों देशों के बीच रिश्तों ने काफी प्रगति की थी, लेकिन फिलहाल ट्रंप प्रशासन इस मामले को तनावपूर्ण रिश्तों की तरफ ले जा रहा है।’’ हालांकि सुश्री विस्वाल ने उम्मीद की है कि ट्रंप प्रशासन उनकी बातों पर ध्यान देगा और अगर प्रशासन ध्यान नहीं देता है तो वह इस मुद्दे को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उठायेंगी।