Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

ब्रेग्जिट विधेयक ब्रिटेन की संसद में पारित

 

ब्रिटेन की संसद ने ब्रेग्जिट विधेयक बिल पास कर दिया है। इससे प्रधानमंत्री थेरेसा मे के लिये यूरोपीय संघ से ब्रिटेन के बाहर निकलने पर बातचीत शुरू करने का रास्ता साफ हो गया है। हाउस ऑफ कॉमन्स ने 14 मार्च को हाउस ऑफ लॉर्ड्स के संशोधनों को 335-287 मतों के अंतर से खारिज कर दिया था। इन संशोधनों में सरकार से कहा गया था कि वह ब्रेग्जिट वार्ता की शुरुआत के तीन महीने के भीतर यूरोपीय संघ के नागरिकों की स्थिति की सुरक्षा करे।

उन्होंने ब्रेग्जिट के समझौते पर संसद में अर्थपूर्ण मतदान कराये जाने के आह्वान को भी 331-286 मतों के अंतर से खारिज कर दिया।

इसका मतलब यह हुआ कि यूरोपीय संघ (निकासी की अधिसूचना) विधेयक बिना किसी बदलाव के हाउस ऑफ कॉमन्स में पारित हो गया। इसके बाद यह हाउस ऑफ लॉर्ड्स में बिना किसी संशोधन के पारित हो गया।

अब निकासी की शर्तों पर संसद के पास वीटो के अधिकार के मुद्दे पर इसे कॉमन्स में दोबारा चुनौती नहीं दी जा सकती है।

हाउस ऑफ लॉर्ड्स पहले ही इस बात पर सहमत हो गया था कि यूरोपीय संघ के नागरिकों के दर्जे के मुद्दे को गारंटी विधेयक में दोबारा शामिल नहीं किया जायेगा। इन्हें सांसदों ने खारिज कर दिया था।