Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

किसान सम्मेलन
देश में कृषि को नई दिशा देगी भावांतर भुगतान योजना
सूखा राहत और जल संरक्षण के लिये ग्राम स्तर पर होंगे काम - मुख्यमंत्री
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान टीकमगढ़ जिले में आयोजित ‘किसान सम्मेलन’ में किसानों के खातों में भावांतर राशि अंतरित करते हुये।

मध्यप्रदेश सरकार हर वह कदम उठायेगी, जिससे किसानों की जिंदगी में खुशहाली आये। अवर्षा हो या मौसम की मार, प्राकृतिक आपदा हो या अन्य संकट, किसानों को किसी भी स्थिति में सरकार अकेले नहीं छोड़ेंगी। किसानों के कल्याण के लिये सरकार ने भावांतर भुगतान योजना चलायी है। यह योजना देश में कृषि को एक नई दिशा प्रदान करेगी। यह बात मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने टीकमगढ़ जिले की पृथ्वीपुर तहसील में आयोजित विशाल ‘किसान सम्मेलन’ में भावांतर भुगतान योजना के तहत किसानों को भावांतर राशि का लाभ वितरित करते हुये कही।

टीकमगढ़, मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कार्यक्रम में टीकमगढ़ जिले के 18 हजार 452 किसानों को कुल 41 करोड़ रुपये की भावांतर राशि का वितरण किया। यह राशि कोर बैंकिंग के जरिये वन क्लिक मनी ट्रांसफर के माध्यम से सभी किसानों के बैंक खातों में हस्तांतरित कर दी गई। मुख्यमंत्री ने सरकार की अन्य योजनाओं के हितग्राहियों के साथ-साथ मंच से प्रतीकात्मक रूप से पाँच किसानों को भावांतर राशि के भुगतान प्रमाण-पत्र भी वितरित किये।

रबी फसल की भी भावांतर राशि दी जायेगी

मुख्यमंत्री ने किसानों से सहमति लेकर मौके पर ही निर्णय लिया कि यह योजना लगातार जारी रखी जायेगी। जब भी फसलों की कीमतें गिरेंगी, तो अधिसूचित फसल जिन्सों में किसानों को उनकी फसल की पूरी कीमत दी जायेगी। खरीफ फसलों के बाद अब रबी की फसलों में भी भावांतर की राशि किसानों को दी जायेगी। टीकमगढ़ जिले में अल्प वर्षा की स्थिति पर चिंता जाहिर करते हुये मुख्यमंत्री श्री चौहान ने जिले के किसानों से कहा कि सरकार किसानों को हर मुसीबत से बाहर निकाल लायेगी। उन्होंने बताया कि टीकमगढ़ जिले के लिये सरकार ने 183 करोड़ रुपये की सूखा राहत राशि जारी की है।

हरियाणा ने अपनाई भावांतर योजना

मुख्यमंत्री ने कहा कि भावांतर भुगतान योजना एक अभिनव योजना है। हरियाणा ने इसे अपना लिया है, कल पूरा देश इसे अपनायेगा। प्रदेश के किसानों की माली हालत सुधारने के लिये हमने तय किया है कि यदि उत्पादन अधिक हुआ तो भी किसान को कम कीमत में फसल नहीं बेचने देंगे।

श्री चौहान ने कहा कि पूरे सागर संभाग में इसी गर्मी से जलाभिषेक अभियान के तहत छोटी-बड़ी जल-संरचनाओं के निर्माण के साथ हर गाँव, हर पंचायत में पानी बचाने के लिये युद्ध स्तर पर काम किये जायेंगे।

  • टीकमगढ़ जिले में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत हर साल 15-15 हजार मकान बनाये जायेंगे।
  • पृथ्वीपुर के महाविद्यालय को स्नातकोत्तर का दर्जा दिया जायेगा।
  • पृथ्वीपुर में शीघ्र ही एसडीएम कोर्ट की स्थापना की जायेगी।
  • मोहनगढ़ में अगले साल महाविद्यालय स्थापित किया जायेगा।
  • जलाभिषेक अभियान में टीकमगढ़ जिले के हर गांव में जल संरचनायें बनाई जायेंगी।