Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

 
नागरिकों को बेहतर सेवायें देना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता
समाधान एक दिन-तत्काल सेवा प्रदाय योजना 11 जनवरी से होगी शुरू

भोपाल, मध्यप्रदेश में डिजिटल सुशासन की दिशा में ऐतिहासिक कदम बढ़ाते हुए सरकार अब नागरिकों को एक दिन में सेवाएँ उपलब्ध करायेगी। इसके लिये सरकार ‘समाधान एक दिन - तत्काल सेवा प्रदाय’ की व्यवस्था कर रही है। इस व्यवस्था की शुरुआत 11 जनवरी 2018 को होगी। यह जानकारी मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने भोपाल में दी। उन्होंने कहा कि नागरिकों को बेहतर सेवायें उपलब्ध करवाना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है।

श्री चौहान ने कहा कि लोक सेवा प्रदाय की गारंटी में देश में ऐतिहासिक पहल करने के बाद डिजिटल गवर्नेंस की दिशा में भी प्रदेश, देश में सर्वोत्तम उदाहरण प्रस्तुत कर सकता है। नई व्यवस्था में कई विभागों जैसे परिवहन, महिला एवं बाल विकास, सामाजिक न्याय, गृह और नगरीय विकास के पोर्टल का बेहतर उपयोग हो सकेगा।

‘समाधान एक दिन-तत्काल सेवा प्रदाय’ की नई व्यवस्था के अंतर्गत ऐसी सेवाओं को चुना गया है, जिनका प्रदाय एक दिन में संभव है। मुख्यमंत्री ने समीक्षा बैठक में कहा कि लोगों को न्यूनतम समय में जरूरी सेवायें उपलब्ध कराना सरकार की जिम्मेदारी है। जानबूझकर सेवाओं के प्रदाय में विलम्ब करने की प्रवृत्ति ठीक नहीं है।

मुख्यमंत्री ने सेवा प्रदाय से जुड़े अमले को पर्याप्त प्रशिक्षण देने के निर्देश दिये। बैठक में बताया गया कि इसके लिये जिला, विकासखण्ड स्तर के अधिकारियों को जिम्मेदारी दी जायेगी। इनमें तहसीलदार, जनपद पंचायत सीईओ, नगरपालिक सीएमओ, विकासखण्ड शिक्षा अधिकारी, रेंज ऑफिसर और सीडीपीओ स्तर के अधिकारियों को सेवाएँ देने के लिये अधिकृत किया जायेगा। संबंधित अधिकारियों और सेवा प्रदाय से जुड़े अमले के लिये विशेष उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन किया जायेगा। श्री चौहान ने सेवाओं के प्रदाय की नियमित समीक्षा और मॉनीटरिंग करने के निर्देश देते हुए कहा कि दक्षतापूर्वक बेहतर सेवाएँ देने वाले अधिकारियों को पुरस्कृत किया जायेगा, लेकिन लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई होगी। मुख्यमंत्री ने सेवा प्रदाय की नई व्यवस्था के संबंध में लोगों को सूचित और प्रेरित करने का अभियान चलाने के निर्देश दिये।

नागरिक किसी भी लोक सेवा केन्द्र में सुबह साढ़े नौ बजे से डेढ़ बजे तक चिन्हित सेवाओं में से चाही गई सेवा के लिये आवेदन दे सकेंगे। उन्हें शाम तक सेवा प्रदाय हो जायेगी। इसके लिये सेवाओं से जुड़े विभागों के अधिकारियों और जिला एवं तहसील स्तर पर संबंधित अधिकारियों को अधिकृत किया जायेगा। लोक सेवा केन्द्रों में सहायक स्टॉफ की व्यवस्था भी की जायेगी।