Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

रूस और तुर्की के बीच हुआ मिसाइल सौदा

चौथी बार रूस के राष्ट्रपति निर्वाचित होने के बाद ब्लादिमीर पुतिन पहले विदेशी दौरे पर अंकारा पहुँचे। इस मौके पर उन्होंने तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन के साथ संयुक्त रूप से संवाददाता सम्मेलन को संबोधित भी किया। उन्होंने घोषणा की कि उनके देश ने तुर्की को लंबी दूरी वाली मिसाइल रक्षा प्रणाली देने का सौदा पक्का कर लिया है। गौरतलब है कि रक्षा प्रणाली की खरीद और पुतिन की यात्रा दोनों ही रूस और तुर्की के बीच घनिष्ठ होते संबंधों का प्रमाण है। तुर्की ने दिसंबर 2017 में रूस से लंबी दूरी वाले एस-400 मिसाइल रक्षा प्रणाली की खरीद का सौदा पक्का किया था। इस दौरे पर इसके पूरे होने की मुहर पुतिन ने लगा दी है। इससे पहले दोनों नेताओं ने साथ मिलकर सांकेतिक रूप से तुर्की के पहले परमाणु ऊर्जा संयंत्र के निर्माण कार्य का शिलान्यास किया। यह संयंत्र रूस द्वारा ही बनाया जा रहा है। स डिजिटल अर्थव्यवस्था पर 5.3 करोड़ डॉलर खर्च करेगा
रूस ने अपनी डिजिटल अर्थव्यवस्था के विकास पर 3.04 अरब रूबल यानी 5.3 करोड़ अमेरिकी डॉलर खर्च करने का लक्ष्य रखा है। एक समाचार एजेंसी की वेबसाइट पर प्रकाशित आदेश में कहा गया है कि इस निधि का उपयोग सूचना प्रौद्योगिकी (आईटी) अधोसंरचना और प्रौद्योगिकी अनुसंधान केंद्रों की वित्तीय जरूरतों की पूर्ति पर किया जाएगा। ‘‘रूस में जुलाई 2017 में अनुमोदित सरकार के डिजिटल अर्थव्यवस्था कार्यक्रम में पाँच क्षेत्रों को शामिल किया गया है। इसके अंतर्गत नियमन, शिक्षा व मानव संसाधन, साइबर सुरक्षा, अनुसंधान व आईटी अवसंरचना आते हैं।’’ रूसी अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से प्राकृतिक संसाधनों के निर्यात और हथियारों की बिक्री पर निर्भर है। इस व्यवस्था से रूस के प्रधानमंत्री दिमित्रि मेदवेदेव अपने देश की अर्थव्यवस्था की संरचना में सुधार लाना चाहते हैं।