Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

जिला शिक्षाधिकारियों की बैठक
सरकारी स्कूलों में ‘एम शिक्षा मित्र’ एप से लगेगी शिक्षकों की उपस्थिति
 

भोपाल, मध्यप्रदेश के सरकारी स्कूलों में परीक्षा परिणामों में सुधार के लिये ठोस प्रयास किये जायें। स्कूल परिसर में रुचिकर माहौल में विद्यार्थियों को पढ़ाई करवायी जाये। सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की शत-प्रतिशत उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिये ‘एम शिक्षा मित्र’ एप का अनिवार्य रूप से उपयोग किया जायेगा। सरकारी स्कूलों में शिक्षकों की उपस्थिति इसी एप के जरिये लगेगी। यह बात स्कूल शिक्षा मंत्री कुंवर विजय शाह ने भोपाल स्थित आर.सी.पी.व्ही. नरोन्हा प्रशासन एवं प्रबंधकीय अकादमी में जिला शिक्षाधिकारियों की बैठक को संबोधित करते हुये कही।

  • सभी जिलों में उत्कृष्ट विद्यालय में सौ-सौ सीटर बालक और बालिका छात्रावास बनेंगे।
  • अगले शिक्षण सत्र से गणवेश बनाने का कार्य स्व-सहायता समूहों से करवाया जाएगा।

स्कूल शिक्षा मंत्री ने निर्देश दिये कि  शिक्षकों के रिक्त पड़े पदों पर भर्ती की कार्यवाही निश्चित समय-सीमा में की जाये।

प्रमुख सचिव स्कूल शिक्षा श्रीमती दीप्ति गौड़ मुखर्जी ने बताया कि सरकारी स्कूलों में शैक्षणिक कार्य प्रभावित न हो, इसके लिये अतिथि शिक्षकों की व्यवस्था की गई है। वर्तमान में करीब 86 हजार अतिथि शिक्षक कार्यरत हैं। उन्होंने स्कूल के बच्चों को निःशुल्क साइकिल वितरण का कार्य जल्द पूरा करने के निर्देश भी दिये। आयुक्त लोक शिक्षण श्री नीरज दुबे ने बताया कि कलेक्टरों की मदद से स्कूल परिसर में अतिक्रमण हटाने का कार्य प्राथमिकता से किया जा रहा है।

प्रदेश में शैक्षणिक सत्र 2017-18 में करीब 23 लाख विद्यार्थियों को पाठ्यपुस्तकों का वितरण करवाया गया है। शैक्षणिक गुणवत्ता के लिये सरकारी स्कूलों में दो बार बाह्य मूल्यांकन की व्यवस्था की गई है।