Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh

 
19 फीसदी बढ़ा प्रत्यक्ष कर संग्रह
 

नई दिल्ली, चालू वित्त वर्ष में जनवरी तक प्रत्यक्ष कर संग्रह बढ़कर 6.95 लाख करोड़ रुपए हो गया है, जो पिछले साल की समान अवधि की तुलना में 19.3 फीसदी अधिक है। वित्त मंत्रालय के आंकड़ों के मुताबिक, इस दौरान कॉरपोरेट कर की वृद्धि दर 19.2 फीसदी, जबकि निजी आयकर की वृद्धि दर 18.6 फीसदी रही है। 6.95 लाख करोड़ रुपए का प्रत्यक्ष कर संग्रह वित्त वर्ष 2017-18 के संशोधित बजट अनुमान का 69.2 फीसदी है। 2017-18 के बजट में 10.05 लाख करोड़ रुपए के प्रत्यक्ष कर संग्रह का अनुमान जताया गया था। मंत्रालय के मुताबिक, अप्रैल 2017 से जनवरी 2018 तक 10 महीनों में सकल प्रत्यक्ष कर संग्रह 8.21 लाख करोड़ रुपए था। हालांकि, इसमें से 1.26 लाख करोड़ रुपए रिफंड करने पड़े।