Department of Public Relation:Government of Madhya Pradesh
social media accounts

 
विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ प्रगतिशील सोच भी जरूरी - राष्ट्रपति
 

अलीगढ़, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में किये गये कार्य समाज की जरूरतों के अनुरूप होने चाहिये। ज्ञान और नवाचार समाज में हो रहे परिवर्तन के अनुरूप बनें। विज्ञान और प्रौद्योगिकी के साथ प्रगतिशील सोच भी जरूरी है, जिससे समाज के सभी वर्ग बराबरी और भाईचारे के साथ आगे बढ़ सकें। यह बात राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद ने अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय के वार्षिक ‘दीक्षांत समारोह’ को संबोधित करते हुये कही।

राष्ट्रपति ने कहा कि अलीगढ़ मुस्लिम विश्वविद्यालय ने भारत की विकास यात्रा में विशेष भूमिका निभाई है और यह वर्ष 2020 में अपनी स्थापना के सौ वर्ष पूरे करने जा रहा है। राष्ट्रपति ने कहा कि विश्वविद्यालय के छात्रों ने सिर्फ भारत में ही नहीं, बल्कि पूरे विश्व और खासतौर से एशिया और अफ्रीका में अपनी छाप छोड़ी है। श्री कोविंद ने कहा कि ज्ञान की खोज और मानव गरिमा की ललक एक दूसरे से गहराई से जुड़े हैं। ये भारतीय लोकाचार और हमारी सभ्यता के केंद्र में रहे हैं। इन्होंने हमारी विविधता में योगदान दिया है, जो हमारे खुले दृष्टिकोण के साथ ही हमारी बड़ी ताकत भी है। एक-दूसरे को सम्मान देना, एक-दूसरे से सीखना, एक- दूसरे के साथ विचारों को साझा करना तथा सोच और जीवन के वैकल्पिक तरीकों की स्वीकृति हमारे समाज के सिर्फ कोरे नारे नहीं हैं, बल्कि ये भारतीय जीवन शैली के प्राकृतिक गुण हैं। उन्होंने समाज और समुदायों को गहराई तक जोड़ रखा है।