| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

देश में पहली बार लड़कियाँ बनेंगी टू-व्हीलर मैकेनिक

कौशल विकास राज्य मंत्री श्री जोशी ने बाँटे प्रमाण-पत्र एवं टूल-किट

भोपाल : सोमवार, जनवरी 16, 2017, 17:26 IST
 

देश में पहली बार शासकीय स्तर पर लड़कियों को टू-व्हीलर की मरम्मत के लिये मैकेनिक की ट्रेनिंग दिलवायी गयी। तकनीकी शिक्षा एवं कौशल विकास (स्वतंत्र प्रभार), स्कूल शिक्षा एवं श्रम राज्य मंत्री श्री दीपक जोशी ने 39 प्रशिक्षित लड़कियों को प्रमाण-पत्र एवं टूल-किट प्रदान किया। लड़कियों को मध्यप्रदेश खादी तथा ग्रामोद्योग बोर्ड के सहयोग से क्रिस्प द्वारा 3 माह का प्रशिक्षण दिया गया है।

श्री जोशी ने कहा कि प्रशिक्षित लड़कियों को वर्कशॉप खोलने के लिये मुख्यमंत्री युवा स्व-रोजगार योजना में ऋण भी दिलवाया जायेगा। उन्होंने कहा कि लड़कियों द्वारा खोले जाने वाले पहले वर्कशॉप का उदघाटन मुख्यमंत्री से करवायेंगे। श्री जोशी ने कहा कि अब हर गाँव में पर्याप्त टू-व्हीलर हैं। प्रशिक्षित लड़कियाँ कहीं भी अपना वर्कशॉप शुरू कर सकती हैं। प्रशिक्षण में सहयोगी टीवीएस कम्पनी भी स्थानीय-स्तर पर रोजगार दिलवाने में मदद करेगी।

आईएएस नहीं होती तो बनती फोर-व्हीलर मैकेनिक

खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड की प्रबंध संचालक श्रीमती रेनू तिवारी ने कहा कि अगर मैं आईएएस नहीं बनती तो एक कुशल फोर-व्हीलर मैकेनिक बनती। उन्होंने कहा कि लड़कियों को आत्म-निर्भर बनाना मेरा सपना है। श्रीमती तिवारी ने कहा कि प्रशिक्षण प्राप्त लड़कियों को वर्कशॉप खोलने के संबंध में कोई भी समस्या हो तो मुझे सीधे बतायें।

चूल्हा-चौका ही नहीं बाकी काम भी कर सकते हैं

टू-व्हीलर मैकेनिक का प्रशिक्षण प्राप्त कर चुकी लड़कियों ने बताया कि वे चूल्हे-चौके के साथ ही मोटर मैकेनिक सहित अन्य काम भी बेहतर ढंग से कर सकती हैं। उन्होंने बताया कि 3 माह के प्रशिक्षण में हमारा कान्फिडेंस लेवल इतना बढ़ गया है कि हम कोई भी काम बेझिझक कर सकते हैं।

दंगल की तरह बनेगी आपकी स्टोरी

टीवीएस के एरिया मैनेजर श्री शुभेन्दु सिन्हा ने बताया कि डीलर आपको रोजगार देने के लिये प्रतीक्षारत हैं। उन्होंने कहा कि दंगल फिल्म की तरह आपकी भी सक्सेस स्टोरी बनेगी।

क्रिस्प के सीईओ श्री मुकेश शर्मा ने बताया कि आगे रेडीमेड गारमेंट, मोबाइल रिपेयरिंग और ट्रेक्टर रिपेयरिंग की ट्रेनिंग भी लड़कियों को दिलवायी जायेगी।

 
विभागीय समाचार