| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

युवाओं को रोजगार, कौशल और संस्कारयुक्त शिक्षा देने कि आवश्यकता

सेन्ट्रल जोन वाइस चांसलर मीट में उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया

भोपाल : बुधवार, दिसम्बर 13, 2017, 19:32 IST
 

उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि आज के समय में युवाओं को रोजगारयुक्त, कौशलयुक्त और संस्कारयुक्त शिक्षा देने की आवश्यकता है। श्री पवैया आज राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में आयोजित सेन्ट्रल जोन वाइस चांसलर मीट में बोल रहे थे। श्री पवैया ने कहा कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र में विश्वविद्यालय द्वारा आयोजित मीट में सरकार, उद्योगपति और विश्वविद्यालयों को शामिल कर किया गया मंथन सराहनीय है। उन्होंने कहा कि सम्पन्न विचार-मंथन का प्रतिवेदन प्रस्तुत करें, सरकार उस पर विचार करेगी।

श्री पवैया ने कहा कि विश्वविद्यालय को शोध कार्यों पर जोर देना होगा। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय शब्द में विश्व जुड़ा हुआ है। इसका आशय है कि विश्वविद्यालय पूरे विश्व से जुड़े हैं। उनका दायित्व है कि ऐसी शिक्षा दें जो पूरे विश्व में प्रभावशील रहे। उन्होंने कहा कि ऐसे शिक्षा पाठ्यक्रम का निर्धारण करना होगा, जिससे युवा बेरोजगार नहीं रहें। युवाओं को सामाजिक सरोकार से जोड़ना होगा। उन्होंने संस्कारयुक्त शिक्षा देने की पहल में 'गुरुवे नम:'' कार्यक्रम को सहयोगी बताया। श्री पवैया ने कहा कि शिक्षा के क्षेत्र में आत्म-चिंतन कर वर्ष 2022 तक प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के सपने को साकार करने में विश्वविद्यालय की महत्वपूर्ण भूमिका है। इससे देश की तस्वीर बदलेगी।

एआईयू के प्रेसीडेंट प्रो. पी.बी. शर्मा ने कहा कि पूर्वजों ने हमारे लिये ज्ञान, आचरण और व्यवहार की शिक्षा की व्यवस्था की थी। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालयों को क्षमतावान विद्यार्थी तैयार करने होंगे। श्री शर्मा ने कहा कि इसके लिये हमें समाज को भी शिक्षा व्यवस्था से जोड़ना होगा। उन्होंने बताया कि राजीव गांधी प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय में जल्दी ही रिसर्च और इनोवेशन सेंटर की स्थापना की जाएगी।

विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. सुनील कुमार ने कहा कि शिक्षकों का समाज में विशेष स्थान है। शिक्षक समाज को गढ़ने का काम करता है। शिक्षक वह बुद्धिजीवी व्यक्ति है जो समाज की संरचना करता है और उसकी बात सभी मानते हैं।

इस मौके पर यूआईटी के डायरेक्टर प्रो. आर.एस. राजपूत भी मौजूद थे। कार्यक्रम के पहले उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया ने उद्योगपतियों और कुलपतियों से राउण्ड टेबल पर चर्चा की। अंत में रजिस्ट्रार श्री एस.के. जैन ने आभार माना।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

ज्ञान लोक मंगल की परम्परा है
माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता विश्वविद्यालय से पत्रकारिता के क्षेत्र में
लोक सेवा केन्द्र पर रोस्टर में प्राधिकार अधिकारी नियुक्त कर सकेंगे जिलाधीश
राज्य मंत्री श्री पाठक ने स्लीमनाबाद उप-तहसील भवन का किया लोकार्पण
भारत की संस्कृति कभी मिट नहीं सकती : उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया
बेनजीर कॉलेज का स्थान परिवर्तन इस सत्र हेतु स्थगित
निजी विश्वविद्यालयों को व्यावसायिक पाठयक्रमों को बढ़ावा देना होगा
अध्यादेश- परिनियमों पर सहमति सही दिशा में लिया गया कदम - राज्यपाल
गरीब विद्यार्थियों की उच्च शिक्षा की राह हुई आसान
प्रदेश में छात्रसंघ चुनाव कराने का फैसला
उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया का दौरा कार्यक्रम
शहरों में पदस्थ प्रोफेसर स्वैच्छा से एक साल के लिये विकाखण्ड-स्तर पर पढ़ायें
उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया का होगा सम्मान
युवा स्वामी विवेकानंद के विचारों को आत्मसात करें
युवा संसद प्रभारियों की 15 सितम्बर को राज्य संग्रहालय में कार्यशाला
सह-प्राध्यापक बने 1598 सहायक प्राध्यापक
स्वामी विवेकानंद के शिकागो धर्म संसद के विश्व विजयी उदबोधन की 125वीं वर्षगांठ
एम.बी.बी.एस., बी.डी.एस. में लेफ्ट-आउट एवं मॉप-अप राउण्ड
नीट यूजी-2017 का द्वितीय चरण शुरू
उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया विश्व बंधुत्व दिवस के कार्यक्रम को करेंगे संबोधित