| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

हिरोशिमा की तर्ज पर बनेगा भोपाल मेमोरियल

अपशिष्ट निष्पादन के लिये केन्द्रीय प्रदूषण निवारण मंडल से आग्रह किया जायेगा
राज्य मंत्री श्री सारंग ने किया यूनियन कार्बाइड का निरीक्षण

भोपाल : रविवार, अक्टूबर 16, 2016, 17:19 IST
 

गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री विश्वास सारंग ने कहा है कि भोपाल जैसी भयावह त्रासदी को भविष्य रोकने और आने वाली पीढ़ी को सचेत करने के लिये यूनियन कार्बाइड को हिरोशिमा की तर्ज पर भोपाल मेमोरियल के रूप में बनाया जायेगा। श्री सारंग आज यूनियन कार्बाइड का निरीक्षण कर रहे थे। इस मौके पर प्रमुख सचिव गैस त्रासदी राहत एवं पुनर्वास श्रीमती गौरी सिंह उपस्थित थे।

राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि यूनियन कार्बाइड को मेमोरियल के रूप में विकसित करने के लिये इसका कांस्पेट और स्वरूप तैयार कर लिया गया है। अगले 2 या 3 माह में इस पर अमल शुरू हो जायेगा। श्री सारंग ने कहा कि कार्बाइड में रखे अपशिष्ट निष्पादन की भी कार्यवाही शुरू हो गई है। प्रयोग के तौर पर पीथमपुर स्थित रामकी प्रायवेट लिमिटेड कम्पनी ने 10 टन अपशिष्ट का निष्पादन सफलतापूर्वक किया है। उन्होंने बताया कि शेष अपशिष्ट के निष्पादन के लिये वे केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण मण्डल से आग्रह करेंगे। उन्होंने कहा कि पिछले दिनों दिल्ली यात्रा के दौरान इस संबंध में मण्डल के चेयरमेन से चर्चा भी की।

राज्य मंत्री श्री सारंग ने कहा कि अब समय आ गया है कि हम ऐसी त्रासदी भविष्य में न हो इसके लिये लोगों को न केवल जागरूक करें, बल्कि इसे एक सबक के रूप में लें। उन्होंने कहा कि भाजपा सरकार आने के बाद गैस पीड़ितों को इस त्रासदी के कारण जो नुकसान हुआ है उसकी भरपाई तो संभव नहीं है, लेकिन उनको न्याय मिले इस दिशा में प्रयास किये जा रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने पिछले 25 साल से इस दिशा में जो प्रयास नहीं हुए उस दिशा में कदम बढ़ाया है और गैस पीड़ितों को न्याय दिलवाने के लिये अदालत से लेकर उनके पुनर्वास की बेहतर कोशिशें की। श्री सारंग ने कहा कि हाल ही में उन्होंने गैस पीड़ितों के सामाजिक, आर्थिक और स्वास्थ्य संबंधी पुनर्वास को लेकर एक अध्ययन करवाया है। इसके आधार पर शीघ्र ही एक कार्ययोजना पर काम शुरू किया जायेगा।

 
विभागीय समाचार