| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

वाणिज्यिक कर विभाग की समाधान योजना

आवेदन 26 अगस्त तक दिये जा सकेंगे

भोपाल : रविवार, अगस्त 6, 2017, 18:39 IST
 

वाणिज्यिक कर विभाग ने मध्यप्रदेश विक्रय कर अधिनियम, मध्यप्रदेश वाणिज्य कर अधिनियम, मध्यप्रदेश वेट अधिनियम और केन्द्रीय विक्रय कर अधिनियम में बकाया राशि की समाधान योजना शुरू की है। समाधान योजना में 31 मार्च, 2012 को या उससे पूर्व समाप्त होने वाली किसी काल अवधि से संबंधित बकाया लंबित को शामिल किया गया है। समाधान योजना में प्रत्येक आवेदन के साथ समाधान राशि, पुरानी बकाया राशि का कुल 40 प्रतिशत अथवा पुरानी बकाया राशि का 100 प्रतिशत, जो अधिक हो, जमा किया जाना होगा।

आवेदन प्रस्तुत करने की अंतिम तिथि 26 अगस्त, 2017 तय की गई है। योजना की विस्तृत जानकारी वाणिज्यिक कर विभाग के वेब पोर्टल www.mptax.mp.gov.in के माध्यम से भी ली जा सकती है।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

जीएसटी जागरूकता पर न्यू मार्केट के समन्वय भवन में 12 जुलाई को कार्यशाला
वाणिज्यिक कर की जाँच चौकियां बंद होंगी
प्रदेश में जीएसटी संबंधी सभी अधिसूचनाएँ जारी
वस्तु एवं सेवाकर पर समन्वय भवन में हुई कार्यशाला
वस्तु एवं सेवा कर पर व्यापारियों के लिये 23 और 26 जून को कार्यशाला
भोपाल में 27 जून को जी.एस.टी. कार्यशाला
वस्तु एवं सेवाकर पर बैरागढ़ में 29 मई को कार्यशाला
वाणिज्यिक कर मंत्री श्री मलैया जबलपुर में 26 नवम्बर को करेंगे विभागीय समीक्षा
उद्योग मंत्री श्री शुक्ल द्वारा गुरू पूर्णिमा पर बधाई
उद्योग और रोजगार मंत्री श्री शुक्ल ने ईद-उल-फितर पर प्रदेशवासियों को शुभकामनाएँ दीं
व्यवसाइयों की समस्याओं पर सहानभूतिपूर्वक विचार किया जायेगा
आयकरदाताओं को 100 बोतल शराब रखने की छूट की पुन: समीक्षा होगी
अब स्टेम्प की किल्लत खत्म
अच्छे परिवेश में कार्य-कुशलता बढ़ती है
वाणिज्यिक कर विभाग को वेब रत्न अवार्ड
सम्पत्ति कर वसूली में तेजी लाने के निर्देश
वर्ष 2012-13 के लिये व्यवसाइयों को डीम्ड असेसमेन्ट की सुविधा
व्यावसाइयों को फार्म-49 की कठिनाइयों से मुक्ति के लिये "ई-गतिमान" योजना शुरू
वाणिज्यिक कर विभाग की "ई-गतिमान योजना" का शुभारंभ 12 सितंबर को
7 पान मसाला व्यवसाइयों पर छापे में 6 करोड़ से अधिक की शास्ति और कर वसूली