| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

सिंचाई के क्षेत्र में मध्यप्रदेश नम्बर एक राज्य होगा-केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती

बुंदेलखण्ड का हर खेत होगा सिंचित
केन-बेतवा लिंक परियोजना की होगी शुरूआत
बुंदेलखण्ड में जल संरचनाओं का होगा विस्तार
बीना नदी परियोजना को मिलेगी मंजूरी : जनसम्पर्क मंत्री डॉ. मिश्र

भोपाल : शुक्रवार, अप्रैल 28, 2017, 19:02 IST
 

मध्यप्रदेश कृषि के मामले में नम्बर एक राज्य है। लगातार पाँच बार मध्यप्रदेश को कृषि कर्मण पुरस्कार प्राप्त हुआ है। अब मध्यप्रदेश सिंचाई के क्षेत्र में भी नम्बर एक राज्य बन जायेगा। यह बात केन्द्रीय जल संसाधन, नदी विकास एवं गंगा संरक्षण मंत्री सुश्री उमा भारती ने मालथौन विकासखण्ड के ग्राम बांदरी में आयोजित बुंदेलखण्ड जल संरक्षण कार्यक्रम का शुभारंभ करते हुए कही। इस अवसर पर उत्तरप्रदेश के ग्राम एवं सेवा आयोग मंत्री श्री मनोहर लाल मन्नू कोरी उपस्थित थे।

केन्द्रीय मंत्री सुश्री भारती ने कहा कि बुंदेलखण्ड में सिंचाई योजनाओं के विस्तार में कोई कमी नहीं छोड़ी जायेगी। बुंदेलखण्ड के हर खेत में सिंचाई की सुविधाएँ उपलब्ध कराई जायेंगी। उन्होंने कहा कि केन-बेतवा लिंक परियोजना की शुरूआत जल्द की जायेगी। इस परियोजना से 6 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होगी जिस पर 18 हजार करोड़ रु. खर्च होंगे। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी 'सबका साथ-सबका विकास' की अवधारणा पर कार्य कर रहे हैं और विकास में आम जनता का सहयोग जरूरी है। उन्होंने कहा कि गंगा नदी को आगामी 7 वर्ष में साफ एवं स्वच्छ बना दिया जायेगा।

उत्तरप्रदेश सरकार के सिंचाई मंत्री श्री धर्मपाल सिंह ने कहा कि भौगौलिक स्थिति के हिसाब से बुंदेलखण्ड के जिलों में बाढ़ एवं सूखा से बचने के लिए संतुलन बनाये जाने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि सिंचाई परियोजनाओं के विस्तार से बुंदेलखण्ड में समृद्धि आयेगी।

प्रदेश के जल संसाधन एवं जनसम्पर्क मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्र ने कहा कि 75 फीसदी आबादी किसानों की है। किसानों के दिन बदलने से ही देश का विकास संभव है। इस दिशा में केन्द्र एवं राज्य शासन द्वारा लगातार प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में सिंचाई का रकबा 7 लाख हेक्टेयर से बढ़कर 40 लाख हेक्टेयर हो गया है। आगामी दो-तीन सालों में यह 60 लाख हेक्टेयर हो जायेगा। उन्होंने कहा कि बीना नदी परियोजना को अगली केबिनेट बैठक में मंजूरी दे दी जायेगी। आगामी वर्षो में बुंदेलखण्ड में सर्वाधिक भूमि सिंचित होगी।

गृह एवं परिवहन मंत्री श्री भूपेन्द्र सिंह ने कहा कि वर्तमान में बुंदेलखण्ड में डेढ़ लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हो रही है। सरकार की नदी जोड़ो योजना सिंचाई के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित हो रही है। उन्होंने मालथौन ब्लॉक में विभिन्न जलाशय का निर्माण कराये जाने की माँग रखी। केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री सुश्री उमा भारती ने केन्द्रीय भूमि जल आयोग द्वारा तैयार स्मारिका का भी विमोचन किया।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

"नमामि देवि नर्मदे"-सेवा यात्रा प्रशंसनीय पहल
जल उपभोक्ता संथाओं के अध्यक्षों का प्रशिक्षण भोपाल में 10 अप्रैल से
एनजीटी ने की मध्यप्रदेश में पर्यावरण संरक्षण प्रयासों की सराहना
विश्व जल दिवस पर परिचर्चा
राज्य मंत्री श्री हर्ष सिंह आज विधानसभा की कार्यवाही में हुए शामिल
विश्व जलाशय दिवस
किसानों की सुविधा के लिए तत्पर है प्रदेश सरकार
प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना निधि से प्राथमिकता वाले कार्य करवाये जा सकेंगे
सिंचाई के लिए हर सुविधा मुहैया कराना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता
महिला शक्ति को सशक्त करना प्राथमिकता
प्रेरणादायक है महर्षि वाल्मीकी का जीवन - मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा
बेहतर सिंचाई व्यवस्था के लिए अभियंताओं और किसानों में हुआ सार्थक संवाद
किसानों की समस्याएँ सुलझाने प्रदेश भर में हुईं सिंचाई बैठकें
संपूर्ण प्रदेश में आज होंगी विशेष सिंचाई बैठकें
प्रकृति के अनुरूप है हमारी संस्कृति
खोड़न में बनेगा सामुदायिक भवन
किसानों की आय बढ़ाएगी दतिया क्षेत्र में नवीन लोअर ओर वृहद सिंचाई परियोजना
केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती से डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने भेंट की
पूरे प्रदेश में 13 अक्टूबर को सिंचाई बैठकों का आयोजन
महापुरूषों के जीवन से नई पीढ़ी को मिलती है प्रेरणा