| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News
विश्व जल दिवस-22 मार्च

एनजीटी ने की मध्यप्रदेश में पर्यावरण संरक्षण प्रयासों की सराहना

भोपाल : बुधवार, मार्च 22, 2017, 21:08 IST
 

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में मध्यप्रदेश शासन द्वारा किये गये कार्य प्रशंसनीय हैं। जल-प्रदूषण से संबंधित प्रकरणों में राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) के निर्देशों का राज्य शासन ने गंभीरता एवं समय-सीमा में पालन किया है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट के अनुसार नर्मदा नदी के अधिकांश स्थानों पर पानी की गुणवत्ता ए-केटेगरी की पायी गयी है, जो महत्वपूर्ण उपलब्धि है। यह बात आज राष्ट्रीय हरित अधिकरण मध्य क्षेत्रीय न्यायपीठ के न्यायिक सदस्य जस्टिस श्री दलीप सिंह ने एप्को 'विश्व जल दिवस'' कार्यक्रम में कही। श्री दलीप सिंह ने एप्को द्वारा 'जलवायु परिवर्तन'' पर आयोजित प्रशिक्षण कार्यक्रम के प्रमाण-पत्र भी वितरित किये।

जस्टिस श्री सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में व्यापक-स्तर पर सिंचाई में वॉटर स्प्रिंकलर के उपयोग से कम पानी से अधिक क्षेत्र में सिंचाई होना संभव हुआ है। उन्होंने कहा कि नगरीय निकायों में दूषित जल के उपचार के लिये सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट के साथ बॉयो फिल्ट्रेशन, बॉयो रिमेडिएशन जैसे वैकल्पिक उपाय भी अपनाने चाहिये।

एनजीटी के विशेष सदस्य श्री एस.एस. गर्बयाल ने कहा कि देश में स्वच्छ पेयजल की मात्रा काफी सीमित हो गयी है। मौसम परिवर्तन के कारण कहीं अल्प-वर्षा, कहीं अति-वर्षा कृषि को प्रभावित कर रही है।

प्रमुख सचिव पर्यावरण श्री मलय श्रीवास्तव ने कहा कि प्रदेश के बड़े शहरों में सीवेज सिस्टम को दुरुस्त कर अपशिष्ट जल को ज्यादा से ज्यादा रि-साइकल किया जायेगा। उन्होंने उद्योगों से अपेक्षा की कि वे पानी का पुनउपयोग करें।

एप्को के कार्यपालन संचालक श्री अनुपम राजन ने कहा कि उपयोगी जल का मात्र 4 प्रतिशत ही देश में उपलब्ध है। जल की उपलब्धता की तुलना में माँग काफी अधिक होने से इसके पुनउपयोग को बढ़ाया जाना चाहिये। मुख्यमंत्री द्वारा 'नमामि देवि नर्मदे'' अभियान से जन-मानस में नर्मदा नदी के संरक्षण के प्रति प्रभावशाली वातावरण निर्मित हुआ है। एनजीटी के अधिवक्ता श्री सचिन वर्मा ने भी संबोधित किया। अंत में बोर्ड के सदस्य सचिव ने आभार माना।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

विश्व जल दिवस पर परिचर्चा
राज्य मंत्री श्री हर्ष सिंह आज विधानसभा की कार्यवाही में हुए शामिल
विश्व जलाशय दिवस
किसानों की सुविधा के लिए तत्पर है प्रदेश सरकार
प्रधानमंत्री खनिज क्षेत्र कल्याण योजना निधि से प्राथमिकता वाले कार्य करवाये जा सकेंगे
सिंचाई के लिए हर सुविधा मुहैया कराना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता
महिला शक्ति को सशक्त करना प्राथमिकता
प्रेरणादायक है महर्षि वाल्मीकी का जीवन - मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा
बेहतर सिंचाई व्यवस्था के लिए अभियंताओं और किसानों में हुआ सार्थक संवाद
किसानों की समस्याएँ सुलझाने प्रदेश भर में हुईं सिंचाई बैठकें
संपूर्ण प्रदेश में आज होंगी विशेष सिंचाई बैठकें
प्रकृति के अनुरूप है हमारी संस्कृति
खोड़न में बनेगा सामुदायिक भवन
किसानों की आय बढ़ाएगी दतिया क्षेत्र में नवीन लोअर ओर वृहद सिंचाई परियोजना
केन्द्रीय मंत्री सुश्री उमा भारती से डॉ. नरोत्तम मिश्रा ने भेंट की
पूरे प्रदेश में 13 अक्टूबर को सिंचाई बैठकों का आयोजन
महापुरूषों के जीवन से नई पीढ़ी को मिलती है प्रेरणा
दतिया में है गंगा-जमुनी तहजीब-मंत्री डॉ. नरोत्तम मिश्रा
भव्यता के साथ मनाएँ दशहरा उत्सव
घर-परिवार को मिल रहा बेहतर ढंग से भोजन