| اردو خبریں | संस्कृत समाचारः मुख्य पृष्ठ | हिन्दी | English | संपर्क करें | साइट मेप
You Tube
पिछला पृष्ठ

View in EnglishDownload Kruti News Download Chanakya News

बाढ़ एवं प्राकृतिक आपदा रोकने के लिये वेटलैण्ड क्षेत्र का संरक्षण जरूरी

प्रमुख सचिव श्री मलय श्रीवास्तव की अध्यक्षता में हुई वेटलेण्ड संरक्षण क्षेत्रीय कार्यशाला

भोपाल : शुक्रवार, जून 9, 2017, 16:06 IST
 

प्रमुख सचिव पर्यावरण श्री मलय श्रीवास्तव ने कहा है कि वेटलेण्ड संरक्षण की नीतियाँ आम लोगों को ध्यान में रखते हुए बनाएं। लोगों को जागरूक करें कि वेटलेण्ड क्षेत्र में निर्माण एवं अन्य गतिविधियों के होने से बाढ़ एवं प्राकृतिक आपदा का खतरा कई गुना बढ़ जाता है। वेटलेण्ड संरक्षण केवल पर्यावरण से जुड़ा मुद्दा नहीं है। इसके लिए एकीकृत योजना बनाने की जरूरत है। वेटलेण्ड चिन्हांकित करते समय आस-पास के लोगों, उचित सीवेज-ठोस अपशिष्ट प्रबंधन, भू-जल रिचार्जिंग आदि को शामिल करते हुए योजना बनाएं। उन्होंने यह बात आज एप्को परिसर में केन्द्रीय पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय तथा एप्को द्वारा आयोजित दो दिवसीय कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए कही। कार्यशाला में छत्तीसगढ़, राजस्थान, महाराष्ट्र, गुजरात, गोवा और मध्यप्रदेश के विषय-विशेषज्ञ भाग ले रहे हैं।

मध्यप्रदेश जैवविविधता बोर्ड के सदस्य सचिव श्री श्रीनिवास मूर्ति ने कहा कि चेन्नई में विनाशकारी बाढ़ आने का मुख्य कारण वेटलेण्ड क्षेत्र में एयरपोर्ट और अन्य निर्माण कार्य रहे। उन्होंने कहा कि पृथ्वीवासियों को रहने लायक वातावरण उपलब्ध कराने वाली ओजोन लेयर बनने में करोड़ों वर्ष लगे। परन्तु पिछले 200 वर्षों के विकास ने क्षति पहुँचाते हुए जलवायु परिवर्तन और ग्लोबल वार्मिंग जैसी समस्याओं को सामने लाकर खड़ा किया है। प्रकृति को हमारी नहीं हमें प्रकृति की जरूरत है।

एनपीसीए के श्री चंदन सिंह ने कहा कि मध्यप्रदेश में 13 वेटलेण्ड चिन्हांकित किए गए हैं जिनके लिए केन्द्र ने 2 करोड़ 4 लाख रुपये की राशि जारी कर दी है। डॉ. एम. रमेश ने वेटलेण्ड संरक्षण और प्रबंधन के लिए कार्यशाला और दस्तावेज तैयार करना, डॉ. रितेश कुमार ने वेटलेण्ड नोटिफिकेशन तैयारी की गाइडलाइन, डॉ. बी.सी. चौधरी ने जैवविविधता के परिप्रेक्ष्य में वेटलेण्ड, प्रो. जे.के. गर्ग ने वेटलेण्ड का नक्शा निर्धारण के बारे में जानकारी दी।

देश में 26 रामसर वेटलेण्ड साइट्स हैं जिनमें मध्यप्रदेश का भोपाल ताल (भोज वेटलेण्ड) भी शामिल है। यहाँ 20 हजार पक्षी (हर साल), 100-120 सारस, 43 प्रजाति की मछली, 10 प्रजाति के सरीसर्प और उभयचर 106 प्रजाति के जलीय पादप, 208 प्रजाति के प्लवक और 115 प्रजाति जूप्लान्कटोंस पाए जाते हैं।

 
विभागीय समाचार

नवीनतम समाचार 

विश्व पर्यावरण दिवस पर होंगे कार्यक्रम और प्रतियोगिताएँ
आठ टीम पहुँची सेमी-फायनल राउण्ड में
ग्रीन क्वेस्ट-2017 क्वार्टर फाइनल आज
पर्यावरण के प्रति ‍भारी उत्साह के बीच हुआ पहला ग्रीन क्वेस्ट
जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण पर ग्रीन क्वेस्ट का पहला चरण आज
मंत्री श्री आर्य की अध्यक्षता में पर्यावरण विभाग की पहली परामर्शदात्री समिति की बैठक
पर्यावरण मंत्री श्री आर्य द्वारा कंडों की होली जलाने की अपील
मुख्यमंत्री कन्या विवाह-निकाह योजना
पर्यावरण मंत्री श्री आर्य ने किया "कंडों की होली" का स्वागत
जलवायु परिवर्तन पर पीएचडी करने वालों को मिलेगी शोधवृत्ति
वैश्विक विकास लक्ष्य प्राप्ति में जलवायु परिवर्तन बड़ी चुनौती
इंदौर में हुई जलवायु परिवर्तन चेतना कार्यशाला
जलवायु परिवर्तन चेतना कार्यक्रम में 7 जिले के 60 शिक्षक प्रशिक्षित
एप्को में तालाब जलग्रहण प्रबंधन पर प्राध्यापकों को एक सप्ताह का प्रशिक्षण
केरवा जंगल केम्प में स्वच्छता अभियान 2 अक्टूबर को
जलवायु परिवर्तन चेतना कार्यक्रम से उच्चतर माध्यमिक विद्यालय भी जुड़ेंगे
जलवायु परिवर्तन चेतना प्रशिक्षण छिन्दवाड़ा में 50 शिक्षक प्रशिक्षित
कठौतिया में ट्रेकिंग केम्प 20 अगस्त को
पर्यावरण मंत्री श्री आर्य के साथ 1500 बाइक सवार ने की तिरंगा यात्रा
सरल भाषा में प्रदूषण नियंत्रण की जानकारी जन-सामान्य को दें